अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टील कचची वैश्विक मांग 6.7 प्रतिशत दर से बढ़ सकती है

अंतरराष्ट्रीय आयरन एंड स्टील इंस्टीच्यूट (आईआईएसआई) का मानना है कि इस वर्ष विश्व में स्टील की मांग में 6.7 प्रतिशत की बढोत्तरी होगी। आईआईएसआई ने सेंट पीट्सबर्ग में अपनी बैठक से इस वर्ष के इस्पात खपत के अनुमान जारी करते हुए कहा है कि पश्चिम की अर्थव्यवस्थाओं की मंदी को देखते हुए चीन, भारत, रूस और ब्राजील का इस्पात की खपत बढ़ाने में मुख्य योगदान रहेगा। अनुमानों के मुताबिक 2008 में विश्व में इस्पात की कुल खपत एक अरब 28 करोड़ 20 लाख टन होने की उम्मीद है। अगले वर्ष इसके और बढ़कर एक अरब 36 करोड़ 30 लाख टन होने का अनुमान लगाया गया है। चीन की मांग में 2008 में साढ़े ग्यारह प्रतिशत बढोत्तरी का अनुमान है और उसका विश्व के कुल इस्पात खपत में 35 प्रतिशत योगदान रहेगा। वर्तमान में भी चीन विश्व का सबसे बड़ा धातु उत्पादक और उपभोक्ता है। इसके विपरीत नाफ्टा ट्रेड ब्लाक, जिसमें अमेरिका, कनाडा और मैक्िसको शामिल हैं। 2006 और 2007 में अर्थव्यवस्थाओं में छाई मंदी के चलते मांग प्रतिशत गिरी है। इस वर्ष नाफ्टा की मांग में 1.प्रतिशत बढ़ोत्तरी की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्टील कचची मांग 6.7 प्रतिशत दर से बढ़ सकती है