DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ढाई वर्ष का परफारमेंस निराशाजनक : राबड़ी

प्रतिपक्ष की नेता राबड़ी देवी ने कहा है कि मंत्रिमंडल में इस फेरबदल से बिहार का कुछ भी भला होने वाला नहीं है। अगर परफारमेंस को आधार मानकर कुछ मंत्रियों को हटाया गया है तो इस पूरी मंत्रिपरिषद का ही कोई औचित्य नहीं है। ढाई वर्षो के कार्यकाल में इस मंत्रिपरिषद का परफारमेंस निराशाजनक रहा है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा है कि संसदीय लोकतंत्र में मंत्रिपरिषद के कार्यो के लिए मुख्यमंत्री जिम्मेवार होता है। लिहाजा मुख्यमंत्री को खुद इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा है कि इस मंत्रिमंडल का फेरबदल किसी अन्य उद्देश्य से हुआ है और इसका खुलासा मुख्यमंत्री को करना चाहिए। इसमें अल्पसंख्यक और अनुसूचित जाति के लोगों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया है। इससे नीतीश कुमार का अल्पसंख्यक और अनुसूचित जातियों के प्रति प्रेम खोखला साबित हुआ है। इस फेरबदल में अपेक्षाकृत अच्छा काम करने वाले कई मंत्रियों को भी हटा दिया गया है जबकि कई ऐसे मंत्री रह गए हैं जिन्हें ‘नन परफारमिंग मंत्री’ कहा जा रहा था। उन्होंने दावा किया है कि इस फेरबदल की कवायद को इतना गंभीर बना दिया गया था कि पिछले कई महीनों से सचिवालय के सभी काम ठप पड़े हुए थे। इस फेरबदल के कारण अप्रैल जसे महत्वपूर्ण महीने में भी सभी विभागों में शिथिलता और तकनीकी कठिनाई आएगी। मुख्यमंत्री के प्रयोग का दौर खत्म हुआ और अब मंत्री अपने-अपने विभागों में प्रयोग का दौर शुरू करंगे। यह वित्तीय वर्ष भी प्रयोगों की बलि चढ़ेगा और राज्य केन्द्र से मिलने वाली राशि को खर्च नहीं कर पाएगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ढाई वर्ष का परफारमेंस निराशाजनक : राबड़ी