अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड के साथ मिलकर पुलिस ने रणनीति बनाई

माओवादियों के 16 अप्रैल के प्रस्तावित बंद को देखते हुए राज्य की पुलिस ने झारखंड पुलिस के साथ मिलकर व्यापक रणनीति बनाई है। बिहार और झारखंड के पुलिस महानिदेशकों ने इस मसले पर बातचीत के बाद तय किया है कि बिहार पुलिस के अधिकारी झारखंड के अधिकारियों के साथ मिलकर नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी अभियान चलाएंगे। खासकर झाझा में हुई नक्सली हिंसा के बाद पुलिस पूरी तरह एहतियात बरत रही है और अब नक्सलियों के हाथ में कोई मौका देना नहीं चाहती है। इधर पुलिस मुख्यालय ने नेपाल से सटे बिहार के सभी जिलों को एलर्ट कर दिया है तथा झाझा के आसपास के इलाकों में छापेमारी तेज कर दी गई है।ड्ढr ड्ढr नक्सलियों ने बंद का आह्वान बिहार और झारखंड के अलावा पश्चिम बंगाल, उड़ीसा तथा छत्तीसगढ़ में किया है। लिहाजा आशंका जताई जा रही है कि वे बिहार और झारखंड के सीमावर्ती इलाकों को विध्वंसक कार्रवाई का केन्द्र बनाएंगे। नेपाल में माओवादियों को मिली सफलता को देखते हुए यह माना जा रहा है कि उत्तरी बिहार में भी वे सामान्य जनजीवन को बाधित कर सकते हैं। राज्य के पुलिस महानिदेशक शिवचंद्र झा ने बताया कि उन्होंने इस मसले पर झारखंड के पुलिस महानिदेशक से बात की है। इस बातचीत के बाद झारखंड के पुलिस महानिदेशक ने अपने यहां के पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) को निर्देश दिया है कि वे बिहार के पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) एस.के. भारद्वाज के साथ मिलकर संयुक्त रणनीति बनाएं और खासकर बिहार और झारखंड के उन सीमावर्ती इलाकों में छापेमारी करं जो नक्सलियों के अड्डे माने जाते हैं।ड्ढr ड्ढr श्री झा ने कहा कि समस्या यह है कि नक्सली बिहार में कार्रवाई करने के बाद झारखंड में जाकर छिप जाते हैं और झारखंड में कार्रवाई करने के बाद बिहार चले आते हैं। दोनों राज्यों की पुलिस की संयुक्त कार्रवाई के बाद इस पर रोक लगेगी। श्री झा ने बताया कि उत्तरी बिहार के इलाकों में नक्सली कार्रवाई की आशंका को देखते हुए सुरक्षा के खास उपाय किए जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झारखंड के साथ मिलकर पुलिस ने रणनीति बनाई