DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू और राबड़ी की हो निगरानी

राबड़ी देवी के भाषण से नाराज जदयू अब लालू प्रसाद द्वारा वरुण मामले में मुकदमा को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लगाए गए आरोप से एकदम से भड़क गया है। पार्टी ने आरोप लगाया कि दोनों नेता समाज में तनाव पैदा करना चाहते हैं। यही नहीं इनका उद्देश्य सामाजिक व साम्प्रदायिक तनाव पैदा करना भी है। पार्टी ने लालू प्रसाद के साथ-साथ राबड़ी देवी पर निगरानी रखने और उनके भाषणों की रिकार्डिग कराने के लिए चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है।ड्ढr ड्ढr पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शिवानंद तिवारी ने कहा कि श्री प्रसाद द्वारा विभिन्न चुनावी सभाओं में यह कहना कि किशनगंज में मुख्यमंत्री के इशार पर उनपर मुकदमा किया गया है, घोर आपत्तिजनक है और पार्टी उसकी भर्त्सना करती है। पार्टी ने चुनाव आयोग से तत्काल हस्तक्षेप की गुहार लगाते हुए कहा है कि ऐसा कहकर लालू प्रसाद ने पूर आयोग की निष्पक्षता पर ही सवाल खड़ा कर दिया है।ड्ढr ड्ढr किशनगंज की सभा में लालू प्रसाद ने वरुण गांधी की छाती पर रोलर चलवाने की बात की। उनके भाषण को आचार संहिता का उल्लंघन मानकर मुकदमा दर्ज किया गया। अब आयोग के अधीन पदाधिकारियों द्वारा दर्ज मुकदमे के लिए मुख्यमंत्री को जिम्मेवार बताना उसकी निष्पक्षता और गरिमा पर आघात है। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद और राबड़ी देवी जिस भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं वह आपसी प्रम व भाईचारा के लिए खतरा है। ये तनाव पैदा कर चुनावी वैतरणी पार करना चाहते हैं। पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल शाम चार बजे श्री तिवारी के नेतृत्व में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से मिला और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में विजय कुमार चौधरी, डॉ. नवीन कुमार आर्य, रवीन्द्र सिंह, अनिल हेगड़े, प्रो. जगन्नाथ यादव, मेहता ज्ञानचंद शामिल थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लालू और राबड़ी की हो निगरानी