अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदूषण और गाय-भैंस

भाईसाहब शहर के थोड़े बाहर एक इलाके में थे, जहाँ कुछ गाय-भैंसें चर रही थीं, कुछ ौंसें एक कीचड़ भर पोखर में आराम कर रही थीं। उन्हें देख कर भाईसाहब के माथे पर शिकन आ गई, उन्हें सिर पर विचारों का भारी बोझ महसूस हुआ। उन्होंने गाय भैंसों से कहा- सारी दुनिया पर संकट आया है, कहीं बाढ़ आ रही है, कहीं सूखा पड़ रहा है, अनाज की कमी है, जानती हो ऐसा क्यों है। एक गाय ने पूछ लिया- क्यों? उन्होंने कहा- ग्लोबल वार्मिग, सारी दुनिया का तापमान बढ़ रहा है। कीचड़ में पड़ी एक ौंस बोली- तभी मैं सोच रही थी कि आजकल गर्मी बहुत पड़ रही है।ड्ढr उन्होंने आगे कहा- यह ग्लोबल वार्मिग जानती हो क्यों हो रही है। ग्रीन हाउस गैसों की वजह से! एक गाय ने डकार ली- गैस? उन्होंने कहा- ग्रीन हाउस गैसें वायुमंडल में बढ़ती जा रही हैं, इससे गर्मी धरती की सतह के पास ही रुक जाती है। मैं तुम्हें यह क्यों बता रहा हूं, इसलिए कि तुम समझो कि तुम्हारा भी ग्रीन हाउस गैसें बढ़ाने में बड़ा योगदान है। उन्होंने अपने बैग में कागज टटोले- मेर पास ठीक-ठीक आंकड़ा है, वह कागज मिल नहीं रहा, लेकिन मीथेन और नाइट्रोन ऑक्साइड और कार्बन डॉइआक्साइड बढ़ाने में तुम लोगों का योगदान एक चौथाई से भी ज्यादा है। एक ौंस बोली- मुझे लगता है आजकल का चारा खराब है, इसे खाने से गैस ज्यादा बनती है, पहले ऐसा नहीं था, जितना भी चारा खाओ, गैस नहीं बनती थी। गाय ने कहा- पता नहीं क्या-क्या डालते हैं जमीन में, रासायनिक खाद, कीटनाशक दवाएं, और पानी भी कितना गंदा होता है। उन्होंने कहा- मुद्दा यह है कि धरती की रक्षा के लिए ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन कम करना होगा। तुम्हें भी इसमें मदद करनी होगी। अचानक गाय-ौंसों को लगा कि उनकी वजह से धरती संकट में है, उन्होंने कहा- लेकिन हम क्या कर सकते हैं। एक ौंस ने कहा- ये कारखाने, जो इतना धुआं उड़ाते हैं, ये गाड़ियां, ये सब क्या करते हैं? एक गाय ने कहा- ये लोग सरकार से प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट लेते हें। हमार लिए भी ऐसी ही कुछ व्यवस्था कर दीजिए। उन्होंने कहा- हां, यही बताने आया हूं। हर गाय, ौंस और बकरी को प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट लेना होगा, इसके लिए हम कई कंप्यूटराइड दफ्तर खोल रहे हैं। वे चले गए। उन्हें जाते देखकर एक ौंस कीचड़ में उतरती हुई बोली- गई ौंस पानी में।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रदूषण और गाय-भैंस