DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कंचयूमर अब किंग है : प्रो. प्रह्लाद

प्रख्यात मैनेजमेंट गुरु प्रो. सी.के. प्रह्लाद कहते हैं कि भारत में आखिर ग्राहकों के हितों को गम्भीरता से लिया जाने लगा है। कंपनियों ने अब उनकी अनदेखी करना छोड़ दिया है। राजधानी में गुरुवार को अपनी ताजा पुस्तक दि न्यू एज ऑफ इनोवेशन के वर्ल्ड लांच के बाद हिन्दुस्तान से एक खास भेंट में उन्होंने कहा कि अमेरिका के विपरीत हमारे यहां कंयूमरों के हितों की अनदेखी होती रही है। पर सशक्त उपभोक्ता आंदोलन ने स्थिति बदल दी है। कंयूमर अब किंग है। पहले कंपनियों का फोकस उत्पाद पर ही होता था। अब ग्राहक की पसंद पर जोर है। प्रो. प्रह्लाद ने उदाहरण देकर समझाया कि चंदेक बरस पहले तक इंश्योरंस कंपनियां डायबिटीा के रोगियों का बीमा करने से पहले दस बार सोचती थीं। अब उन्होंने उनका भी बीमा करना शुरू कर दिया है। प्रो. प्रह्लाद ने कहा कि भारत में सम्पन्न बनने की पहले भी कोशिशें होती थीं। चाहत भी थी। पर कोई ठोस नतीजे सामने नहीं आ रहे थे। अब स्थितियां बदली हैं। यह नव्यशीलता (इनोवेशन) का युग है। देश आर्थिक क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ता ही जा रहा है। प्रो. प्रह्लाद ने कहा कि उदारीकरण, संचार क्रांति और इंटरनेट के जरिए हमारे समाज का चेहरा बदला है। इसके चलते विकास के नए मॉडल खोजे गए हैं। पुराने मॉडल को खारिा करने से देश को लाभ हो रहा है। प्रो. प्रह्लाद ने कहा कि अगर बात उदारीकरण के दौर से पहले की करं, तो प्राय: कंपनियों के फोकस में उत्पाद रहता था। अब कंपनियां फोकस करती हैं अपने सम्भावित ग्राहक की बदलती पसंद पर। जाहिर है कि इसके चलते उन्हें लाभ भी हो रहा है। उनके विचारों को बहुत से उद्योगपतियों तथा बुद्धिाीवियों ने बिल्कुल विद्यार्थी के भाव से सुना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कंचयूमर अब किंग है : प्रो. प्रह्लाद