DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंसाफ की तलाश में सेक्स वर्कर

पांच दिनों पूर्व सीतामढ़ी में तबाह हुई सेक्स वर्कर्स न्याय की गुहार लगाने पटना पहुंची। एक छोटी घटना ने इतना तूल पकड़ा कि रडलाइट एरिया के 53 घरों को जला डाला गया। इस घटना में लगभग 500 औरतें, बच्चे तबाह हो गये7 जिनके समक्ष अब भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। पटना पहुंचीं इन महिलाओं से हिन्दुस्तान के प्रतिनिधि ने जब बात करनी चाही तो तबाही और खौफ का मंजर उनके चेहर पर साफ झलक रहा था। घटना के पांच दिन बीत जाने के बाद भी कई बच्चियां अभी तक गायब बतायी जा रही हैं। उन्होंने जो बताया उसे सुनकर किसी का भी दिल दहल उठेगा। मासूम हिना ने बताया कि लोगों द्वारा उन्हें बुरी तरह पीटा गया। लोग चांदनी और गुंजा को जबरन उठाकर ले गये तथा उनके साथ बलात्कार किया। हकिरू निशा ने बताया कि उनका हाथ तोड़ डाला गया। मेनका (3 माह) और टिंकू कुमार अभी भी लापता है।ड्ढr ड्ढr इसके अलावा सुहैल, अकबर, गुंजा, रूखसाना, शाबिना खातून, हिना, मो. सलीम, चम्पा, जुलेखा, जरीना, सोनी, को बुरी तरह पीटा गया। जावेद समेत चार बच्चों को जलाने से मौत हो गयी। अचानक घटी इस घटना ने सीतामढ़ी के बोहा टोला की महिलाओं, बच्चों के सर से छत एवं मुंह से निवाला ही छीन लिया है। महिलाओं ने एक स्वर में बताया कि वे दो दिनों से पटना में भटक रही हैं, लेकिन उनका दुख दर्द सुनने वाला कोई नहीं है। पीड़ितों ने बताया कि वे अपनी गलतियों को स्वीकारते हुए समाज की मुख्यधारा से जुड़ना चाहती है। सफल जीवन जीने के लिए वे सोमवार को मुख्यमंत्री के जनता दरबार में गुहार लगायेंगी। अगर उन्हें वहां से न्याय नहीं मिला, तो पटना की धरती पर सर पटक-पटक कर जान दे देंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इंसाफ की तलाश में सेक्स वर्कर