DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी नहीं हटे तो भाजपा में विभाजन तय

प्रदेश भाजपा के बागी विधायक अब ‘आर-पार’ की मूड में आ गए हैं। रविवार को भी असंतुष्ट विधायकों की कोर कमेटी की बैठक हुई जिसमें इस पूर मामले पर ज्ञापन तैयार कर केन्द्रीय नेतृत्व को सौंपने का निर्णय लिया गया। इसमें इस बात का जिक्र होगा कि प्रदेश भाजपा किस तरह ‘एक नेता’ की पाकेट पार्टी बनकर रह गई है। विधायक नित्यानंद राय ने मोर्चा खोलते हुए कहा कि उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की निरंकुशता पार्टी को बर्बादी की ओर ले जाएगी। एक अन्य विधायक का कहना है कि उन लोगों ने हर तरह की स्थिति का सामना करने के लिए कमर कस ली है। उनकी ‘मोदी हटाओ’ मांग यदि नहीं मानी जाती है या नाराज विधायकों पर कोई कार्रवाई होती है तो पार्टी में विभाजन भी संभव है। तेजी से बदलते घटनाक्रम के मद्देनजर कहा जा रहा है कि 22 अप्रैल के बाद केंद्रीय नेतृत्व ‘बागी’ विधायकों को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया।ड्ढr ड्ढr ढाका के विधायक अवनीश सिंह ने दावा किया कि ‘कोर कमेटी’ में लगभग डेढ़ दर्जन विधायक शामिल हुए। राय का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि हम सभी मोदी को हटाने की मांग पर अडिग हैं। दूसरी तरह विधायकों के बागी तेवर से चिंतित आलाकमान ने वरीय नेताओं से विमर्श शुरू कर दिया है। बुलावे पर राजग के प्रदेश संयोजक और नए स्वास्थ्य मंत्री नंदकिशोर यादव दिल्ली गए। नई दिल्ली से फोन पर बिहार प्रभारी कलराज मिश्र ने बताया कि गतिरोध दूर करने के तरीके पर विचार करने के लिए यादव को दिल्ली बुलाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मोदी नहीं हटे तो भाजपा में विभाजन तय