अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1.90 लाख लोगों को नहीं मिला राशन कार्ड

राज्य के 1.0 लाख उपभोक्ताओं को दो साल बाद भी राशन कार्ड नहीं मिला है। इस कारण आवेदकों की पहचान भी खाद्यआपूर्ति विभाग की पेटी में कैद हो गयी है। आवेदक विभाग का चक्कर लगाते-लगाते थक चुके हैं। राशन कार्ड के अभाव में कई लोगों को आवासीय प्रमाण-पत्र (अस्थायी या शैक्षणिक) मिलने में भी परेशानी हो रही है। सिर्फ रांची जिले में ही 1.44 लाख नये उपभोक्ताओं ने राशन कार्ड के लिए आवेदन दिया है। विभाग के मुताबिक रांची जिले में 7.22 लाख परिवार निवास करते हैं। उपभोक्ताओं की जरूरत को ध्यान में रख कर सरकार ने विभिन्न जिलों में नया राशन कार्ड बनाने का निर्णय लिया था। इसके लिए तत्कालीन खाद्य वितरण मामले के सचिव महावीर प्रसाद ने जिलों के संबंधित अधिकारियों को उपभोक्ताओं का सर्वेक्षण कर नया राशन कार्ड देने को कहा था। साथ ही अवैध राशन कार्डो को रद्द करने का आदेश दिया था। अवैध तरीके से बनाये गये राशन कचार्ड रद्द तो किये गये, लेकिन नये राशन कार्ड नहीं मिले। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 1.90 लाख लोगों को नहीं मिला राशन कार्ड