DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस डायरी में वेलेंटाइन बाबा के शिष्यों की भी कहानी

पुलिस की डायरी में चोर-उचक्कों की ही नहीं ‘वेलेन्टाइन बाबा’ के शिष्यों की कहानियां भी दर्ज हो रही हैं। दारोगा जी भी अब दास्ताने मोहब्बत लिखने के आदी हो चुके हैं। राज्य के कई थानों में पुलिस की डायरी ऐसी ‘प्रेम कथाओं’से पटी पड़ी हैं। अपहरण की प्राथमिकी से शुरू अनुसंधान फाइनल स्टेज में पहुंचते ही ‘प्रम ग्रंथ’ बन जाता है। दारोगा जी भी कुछ उसी अंदाज में डायरी लिखकर अपना पिण्ड छुड़ाते हैं। मजमून कुछ ऐसा-फलां की बेटी के अपहरण के मामले में जांचोपरांत ऐसा प्रतीत होता है कि मामला प्रम-प्रसंग का है। इसके पर्याप्त साक्ष्य मिले हैं कि फलां कुमारी का उसी मुहल्ले के फलां कुमार से लंबे समय से प्रम प्रसंग चल रहा था। घटना की रात भी दोनों एक साथ देखे गए थे।’ऐसी कई कहानियां हैं जो ‘डरावनी’सी दिखने वाली पुलिस डायरी के पन्नों में कैद हैं। यकीन न हो तो कुछ मामलों पर गौर करं जिसकी पुष्टि सरकार भी ताल ठोक कर कर रही है। वर्ष 2007 में अपहरण के 20मामले दर्ज किए गए थे। इसमें से 811 घटनाएं लड़कियों को विवाह के लिए भगाने की थीं।ड्ढr ड्ढr अनुसंधान के बाद 71 घटनाएं गलत साबित हईं जबकि 740 घटनाएं विवाह के मकसद से यवतियों को भगाने की थीं। अपहरण के लिए दर्ज इन कांडों के अनुसंधान के बाद 276 मामलों में दारोगा जी को पुलिस डायरी में ‘प्रेम कहानी’ लिखनी पड़ी। इन मामलों में सच्चाई के सामने आने के बाद पता चला कि लड़कियां अपनी मर्जी से अपने ‘हीरो’(प्रमी) के साथ उड़ंछू हुई थीं। पुलिस अधिकारियों की मानें तो ज्यादातर मामलों में जो बातें सामने आ रही हैं उनमें गार्जियन अपनी नाक बचाने और ‘फूटी आंख नहीं सुहाने वाले’ बेटी के प्रेमी और उसके परिवार को फंसाने के लिए अपहरण का मामला दर्ज कराते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुलिस डायरी में वेलेंटाइन बाबा के शिष्यों की भी कहानी