DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अबकिस दरबार में जाऊं?

सिर्फ भगवान का दरबार ही बचा है। -बासुकी यादव, पटनाड्ढr -सुशासन में देर है, अंधेर नहीं। - राहुल पटेल, गोपालगंजड्ढr जो जैसी करगा सेवा, वैसा पाएगा मेवाड्ढr -क्या सेवा करं जो डिसटिंक्शन मिले? -सुचिता श्रीवास्तव, गोपालगंजड्ढr रो रहे हैं बीएसएनएल के मोबाइल ग्राहकड्ढr -रोने से मन का बोझ तो ठंडा होता है, बीएसएनएल को शुक्रियाअदा करं। -रंजीत, हाजीपुरड्ढr शराबी पतियों की खैर नहीं, बीवी ले रही खबरड्ढr -आखिरकार बीवियों की आखें खुल ही गईं। -ममता, पूर्णियाड्ढr बाकी बचे 8 जिले जगमग होंगेड्ढr -लालटेन से कि मोमबत्ती से? - गुड्डू लाल, मढ़ौराड्ढr चोरी बिहार में और बिक्री सरहद पारड्ढr - इसी को कहते है एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट। -अजीज रहमान, पटनाड्ढr राशन में गड़बड़ी पर नपेंगे एसडीओड्ढr -लेकिन मरंगे भूखे गरीब। -ओम प्रकाश मेहता, पवई (औरंगाबाद)ड्ढr आर - पार के मूड में बागीड्ढr - जनता की भलाई के लिए या अपने लाभ के लिए। - अभय कुमार राय, पटोरी (समस्तीपुर)ड्ढr एसएफसी को 13 करोड़ का घाटाड्ढr -अर भाई, इ घाटा है कि घोटाला। -मुनमुन, अबदपुरड्ढr किसानों को प्रताड़ित कर रही राज्य सरकारड्ढr -सीएम बनने का सपना छोड़ कांव-कांव करते रहिए। -राजीव, रसीदपुर (बेगूसराय)ड्ढr राजदूत लो, 10 आतंकी छोड़ोड्ढr -एक्सचेंज आफर चल रहा है क्या? -सत्येन्द्र कुमार, हाजीपुर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अबकिस दरबार में जाऊं?