अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लिप से देर से उतरा पीएम का विमान

इंदिरागांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के हवाई यातायात नियंत्रण कक्ष में मंगलवार को उस समय तनाव व्याप्त हो गया जब सिविल एटीसी राडार पर प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के विमान के पास ही एक ब्लिप यानी किसी अन्य विमान या विमान जसी चीज के होने का संकेत मिला। इस अप्रत्याशित ब्लिप के कारण प्रधानमंत्री के विमान को निर्धारित समय से 16 मिनट की देरी से उतारा गया। ब्लिप नजर आते ही एटीसी अधिकारियों ने प्रधानमंत्री विमान के पायलट से कहा कि वह विमान को हवा में ही रखे। इसका कारण पूछने पर सूत्रों ने कहा कि जब वीआईपी विमान के पास किसी अन्य विमान के होने का शक होता है तो पहले दोनों के बीच फासला बढ़ाने का काम किया जाता है ताकि वीआईपी विमान हमलावर विमान की जद से बाहर हो जाए। इस बीच यह भी तय कर लिया जाता है कि क्या वास्तव में कोई दूसरा विमान था भी या नहीं। इस मामले में एसा कोई विमान नहीं था। क्िलप नजर आने के कई कारण बताए गए जिनमें मल्टीपल टर्न अराउंड इको, किसी वातावरणीय विरोधाभास और उपकरण में खराबी आदि शामिल हैं। भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण ने इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। सूत्रों का कहना है कि इस मामले में सिस्टम में कोई खराबी रही होगी। प्रधानमंत्री वायुसेना के विमान से रांची से दिल्ली आ रहे थे कि दिल्ली के नभ क्षेत्र में यह ब्लिप नजर आया। सूत्रों ने इस संभावना से भी इनकार किया है कि किसी अन्य विमान के ट्रांसपोंडर के सिग्नल के कारण ब्लिप नजर आया हो। उनका कहना है कि जब किसी ट्रांसपोंडर से ब्लिप आता है तो उसका कॉल साइन (विमान का कोड नंबर) भी आता है। इस मामले में कोई कॉल साइन नहीं था। सूत्रों के मुताबिक इससे पहले कि हवाई सुरक्षा संबंधी कोई कदम उठाने के लिए वायुसेना से कहा जाता, यह स्पष्ट हो गया कि प्रधानमंत्री के विमान को कोई खतरा नहीं है। अलबत्ता विमान को रनवे 28 पर 16 मिनट बाद उतार लिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ब्लिप से देर से उतरा पीएम का विमान