DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोहतास में फोरलेन सड़क पर उभरीं दरारें

बनने के छह माह बाद ही सड़क में पैदा हो गई दरार। वह भी फोरलेन सड़क में , जिसके निर्माण की निगरानी सीधे केन्द्र सरकार करती है। यह बात सुनने में कुछ अटपटा जरूर लग रही होगी, लेकिन यह सौ फीसदी संच है, जी हां! कहीं पचास मीटर, तो कहीं एक सौ मीटर लम्बी दरार दिखाई दे देगी। चौड़ाई इतनी कि उसमें मोटरसाइकिल का चक्का घुस जाए। रोहतास जिले के शिवसागर प्रखंड की सीमा खुर्माबाद एवं सासाराम की सीमा कुम्हऊ गेट के बीच मलवार, घोरघट, टेकारी, खुर्मावाद गांवों के समीप फोरलेन सड़क में दरारं पड़ गई है।ड्ढr ड्ढr इसके पूर्व भी उक्त स्थलों पर सड़कों पर दरार आई थी। लेकिन, लेकिन हाय-तौबा मचते हीं सड़क निर्माण कंपनी पुंज लॉयड ने दरार को तुरंत भरवा दिया। जैसे ही वाहनों का दबाव बढ़ा और वर्षो की बौछार पड़ी, सड़क अपने हालत की सच बयां कर दी। अब तो इस दरार के संबंध में बोलने के लिए न तो निर्माण कम्पनी यहां है और न ही उसके अधिकारी। छ:ह माह पूर्व हीं कंपनी के अधिकारी सड़क को एन.एच.आई को सौंप कर चले गये। जबकि हैण्डओवर के एक वर्ष बाद तक उसी कंपनी को टूटी-फूटी सड़कों की मरम्मत करनी थी। लेकिन जनता के बीच यह सवाल उभरने लगा है कि कही कोई बड़ा हादसा न हो जाए। इसपर यहां के जन प्रतिनिधि भी मौन साधे हुए हैं। जबकि इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व केन्द्रीय मंत्री मीरा कुमार भी करतीं हैं और क्षेत्रीय विधायक ललन पासवान है। इन दोनों में किसी ने इस मुद्दे पर अबतक सवाल नहीं उठाया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रोहतास में फोरलेन सड़क पर उभरीं दरारें