DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिया संग जाने की मिली इचााजत

प्रेम विवाह करने वाली 1लड़कियों को हाईकोर्ट ने पति के साथ जाने की क्षाजत दे दी। साथ ही लड़कियों के सास-ससुर को भी हिदायत दी कि बहू को किसी प्रकार का कष्ट नहीं होना चाहिए। मंगलवार को कार्यकारी मुख्य न्यायाधिश न्यायमूर्ति चन्द्रमौली कुमार प्रसाद तथा न्यायमूर्ति जयनन्दन सिंह की खंडपीठ ने कोर्ट में पेश की गई कुल 34 लड़कियों से बारी-बारी बात कर मुक्त करने का आदेश दिया।ड्ढr ड्ढr दोपहर लगभग सवा दो बजे महिला पुलिसकर्मियों के साथ पटना स्थित गायघाट उत्तर रक्षागृह से लाई गई सभी लड़कियों को मुख्य न्यायाधीश के न्याय कक्ष में पेश किया गया। उस समय न्याय कक्ष वकीलों और लड़कियों के पति, माता-पिता से खचाखच भरा हुआ था। सरकारी वकील नीरा नन्दन ने हलफनामा दायर कर पेश की गई लड़कियों का पूरा ब्योरा अदालत को दिया। कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री प्रसाद और न्यायमूर्ति श्री सिंह ने इजलास में बारी-बारी से लड़कियों को बुलाकर उसकी मर्जी पूछी। फिर पति और उसके माता-पिता से पूछताछ की। संतुष्ट हाने के बाद अदालत ने संजू कुमारी, शोभा कुमारी,शमीना खातून,बबीता कुमारी, राम सुमारी देवी, संगीता कुमारी, पुष्पा कुमारी, शबनम कुमारी, सोनी कुमारी , नीलम, प्रियंका, मुन्नी कुमारी, गुंजन कुमारी,पिंकी कुमारी, गुड़िया कुमारी, बिन्दू कुमारी सहित 1लड़कियों को कोर्ट में मौजूद अपने-अपने पतियों के साथ जाने की अनुमति दे दी। लड़कियों को इसलिए मुक्त नहीं किया जा सका क्योंकि रिमांड होम में रहते हुए उनपर मारपीट करने का मुकदमा दर्ज है। अदालत ने कहा कि जमानत मिलने के बाद इन्हें मुक्त किया जाएगा। बाकी आधे दर्जन लड़कियों के पति जेल में होने के कारण यहां नहीं आ सके इसलिए उनकी मुक्ति भी टल गई। अब 6 मई को फिर सुनवाई होगी। उस दिन सभी लड़कियों को पेश किया जाएगा। अदालत ने लड़कियों से कहा कि आपलोग जहां जाना चाहेंगी वहां जा सकती हैं। माता-पिता के कहने से कुछ नहीं होगा। सभी लड़कियां दुल्हन की तरह सजधज कर आई थी। सभी को इस बात का एहसास था कि पिया के साथ जाने की क्षाजत जरुर मिल जाएगी। सुनवाई के दौरान कई बार जोरदार ठहाका भी लगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पिया संग जाने की मिली इचााजत