अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूल से लौटने में झुलस रहे बच्चे

चिलचिलाती धूप से स्कूली बच्चों की बुरी गत बन रही है। स्कूल से घर लौटने में उनके चेहरे झुलस जा रहे हैं। खासकर नर्सरी व केजी के बच्चों के चेहर सुर्ख लाल हो जाते हैं। कई बच्चे बीमार भी पड़ने लगे हैं। बेहाल बच्चे घर लौटते ही बस्ते फेंक बिस्तर पर लेट जाते हैं।ड्ढr ड्ढr उन्हें देख माता-पिता भी परशान हो जाते हैं। छाता व टोपी का सहारा भी राहत नहीं दे पा रहा है। अधिसंख्य निजी स्कूलों में पढ़ाई का समय आधा से एक घंटे तक घटा दिया गया है। इसके बावजृूद बस,ऑटो व रिक्शा से आने वाले बच्चे दोपहर ढाई से तीन बजे के करीब ही घर पहुंच पाते हैं। इधर राजधानी का पारा मंगलवार को 40.6 डि.से. पर पहुंच गया। गया में पारा 42.1 व भागलपुर में 41.5 डि.से. दर्ज हुआ। बकौल मौसम विज्ञान केन्द्र बुधवार को भी राजधानी का पारा 41 डि.से. रहेगा। शहर का न्यूनतम तापमान भी 23 डि.से. रहा। जलन ऐसी कि बगैर चेहर को ढके सड़कों पर निकलना मुश्किल था। हलक सूख जा रहे थे। लोगों को गला तर करने के लिए ठंडा पेय, गन्ने का जूस, बेल का शर्बत, आइसक्रीम आदि का सहारा लेना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्कूल से लौटने में झुलस रहे बच्चे