DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छोटी सी आशा

ााद्यान्न के मोर्चे पर दुनिया की जो तस्वीर पेश की जा रही है, वह काफी भयावह है। दुनिया भर में खाद्यन्न का उत्पादन कम हुआ है और आगे के आसार भी ज्यादा अच्छे नहीं हैं। कई देशों में तो खाद्यान्न की किल्लत के चलते लोग न सिर्फ सड़कों पर उतरं हैं, बल्कि दंगे तक हो चुके हैं। ऐसे में भारत का खाद्यान्न उत्पादन बढ़ने की खबर राहत देती है। हालांकि इसके लिए कृषि मंत्रालय ने जिस दौर के आंकड़ें पेश किए हैं, वह लगभग गुजर ही चुका है। इस तीसर एडवांस एस्टीमेट के अनुमान में खरीफ की फसल बाजार में खप चुकी है और बाजार में चावल के दाम का बढ़ना यही बताता है कि उत्पादन भले ही बढ़ा हो, लेकिन बाजार की जरूरत इससे ज्यादा है। रबी की फसल अभी बाजार में आ रही है और गेंहू के मोर्चे से अच्छी खबर है। खाद्य निगम ने पहले दस दिन में बाजार से अपनी जरूरत का आधा गेंहू खरीद लिया है और उम्मीद यह है कि अच्छे उत्पादन के चलते शायद इस साल हमें आयात भी न करना पड़े। यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि दुनिया भर के बाजारों में इसकी कीमतों को पहले ही आग लगी हुई है। जाहिर है कि ये आंकड़े घरलू बाजार के मिजाज को ठंडा करने में भी योगदान तो देंगे ही। ऐसे हालात में निसंदेह यह एक अच्छी खबर है। लेकिन फिर भी यह उतनी अच्छी खबर नहीं है, जितना अच्छा इसे होना चाहिए था। मंगलवार को पेश किए गए इन आंकड़ों के हिसाब से कृषि उत्पादन में महा 4.6 फीसदी बढोतरी ही हासिल हुई है। जबहम अपने घरलू उत्पाद को दस फीसदी से ज्यादा गति से बढ़ाने की बात कर रहे हैं तो हमारी अर्थव्यवस्था का एक ऐसा सेक्टर इसकी आधी से भी कम दर तरक्की से आगे नहीं बढ़ पा रहा, जिसमें देश की सत्तर फीसदी आबादी लगी हुई है। अगर यही जारी रहा तो कुछ देश में कुछ लोग तेजी से आगे बढ़ेंगे और बाकी फिसड्डी बने रहेंगे। जाहिर है कि हमें न सिर्फ कृषि क्षेत्र की उत्पादकता तेजी से बढ़ानी है, वरन इसकी प्रति किसान उत्पादकता भी तेजी से बढ़ाने की जरूरत है। पिछले काफी समय से हम जिस दूसरी हरित क्रांति की सिर्फ बात ही कर रहे थे, उसे अब जमीन पर उतारने का वक्त आ गया है। साथ ही ऐसी व्यवस्था बनाने की भी जरूरत है, जिससे कृषि में लगे अतिरिक्त श्रम को औद्योगिक व्यवस्था से जोड़ा जा सके। दोनों क्षेत्रों के बीच पुल न बने तो समय-समय पर ऐसे संकट आते और गहराते रहेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छोटी सी आशा