class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बालू ने पेट्रोलियम मंत्री से गैस देने की सिफारिश की

ाहाजरानी एवं परिवहन मंत्री टी.आर.बालू ने बुधवार को कबूल किया कि उन्होंने अपनी दो पारिवारिक कंपनियों को गैस दिलवाने के लिए पेट्रोलियम मंत्री से कहा था। टी.आर.बालू पहले इन कंपनियों के मैनेजिंग डायरक्टर रह चुके हैं। राज्यसभा में अन्ना-द्रमुक के सदस्य वी.मैत्रेयन ने शून्यकाल के दौरान इस मामले को उठाते हुए कहा था कि मंत्री ने अपने दो बेटों और अपनी दो पत्नियों की दो कंपनियों को गैस दिलाने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया है।ड्ढr अपने बचाव में श्री बालू ने कहा कि पूर्व राजग सरकार में मंत्री बनने से पूर्व वह किंग के मिकल्स तथा किंग इंडिया पावर कार्पोरशन के प्रबंध निदेशक थे। इन कंपनियों का गेल के साथ 10,000 क्यूबिक मीटर गैस के लिए एक समझौता हुआ था। लेकिन वर्ष 2003 में राजग सरकार से त्यागपत्र देने के बाद भाजपा ने इस गैस आवंटन को कैंसल कर दिया था। श्री बालू ने कहा कि 40,000 शेयरहोल्डरों और कर्मचारियों के हित को देखते हुए उन्होंने पैट्रोलियम मंत्री से गैस दिलाने को कहा था तो इसमें क्या गलत था। उनका कहना था कि भाजपा उनसे बदला ले रही है। जसे ही शून्यकाल में श्री मैत्रेयन ने यह मामला उठाया तो सत्ताधारी सदस्यों और भाजपा व अन्ना-द्रमुक के सदस्यों के बीच जबरदस्त नोंकझोंक हो गई। सदस्य श्री तिरुचीसिवा ने व्यवस्था का प्रश्न उठाया। संसदीय मामलों के राज्यमंत्री श्री वी.नारायणसामी ने भी व्यवस्था का प्रश्न उठाया और कहा कि नियम 238 के अंतर्गत जब तक मामले की पुष्टि नहीं होती, उसे नहीं उठाया जा सकता। लेकिन उपसभापति प्रो.पी.जे.कुरियन ने उनके व्यवस्था के प्रश्न को खारिा करते हुए मैत्रेयन को बोलने की आज्ञा दी।ड्ढr मैत्रेयन ने यह मामला उठाते हुए कहा कि उनकी किंग्स कैमिकल्स कंपनी का नाम वर्ष 2004 के तमिलनाडु बैंक के ऋण न चुकानेवालों की लिस्ट में है। सूत्रों के अनुसार प्रिवेंशन आफ करप्शन एक्ट के अंतर्गत इस मामले में श्री बालू पर मुकदमा चलाने के लिए प्रधानमंत्री से आज्ञा मांगी जा रही है। श्री बालू ने नियमों को तोड़ कर ओएनजीसी तथा गेल से इन दो कंपनियों को कावेरी बेसिन से गैस से दिए जाने को कहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बालू ने पेट्रोलियम मंत्री से गैस देने की सिफारिश की