DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रखंडों में नियुक्त होंगी डाइटिशियन

तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की तर्ज पर झारखंड के प्रखंडों में आहार विशेषज्ञों (डाइटिशियनों) की नियुक्ित की जायेगी। राज्य में बढ़ते कुपोषण पर काबू पाने के लिए झारखंड सरकार दक्षिण भारत में लागू योजनाओं पर आधारित प्रस्तावों पर विचार कर रही है। इस संबंध में रांची वीमेंस कॉलेज की प्राचार्या डॉ मंजू सिन्हा ने भी स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही को एक प्रस्ताव सौंपा है। डाइटिशियन के पद को लेकर छात्राओं में उत्सुकता है। रांची यूनिवर्सिटी ने भी छात्राओं को रोजगार के नये अवसर प्रदान करने के लिए क्िलनिकल न्यूट्रिशन एंड डाइटेटिक्स (सीएनडी) का पाठय़क्रम शुरू किया है। रांची वीमेंस कॉलेज के प्रथम बैच की आधी दर्जन छात्राएं राजधानी के प्रतिष्ठित अस्पतालों में कार्यरत हैं। छात्राएं इसे लेकर गंभीर हैं। फिलहाल स्नातक स्तरीय यह वोकेशनल कोर्स दो कॉलेजों रांची महिला कॉलेज और जमशेदपुर महिला कॉलेज में चलाया जा रहा है। आइएससी उत्तीर्ण छात्राएं इसकी पढ़ाई कर सकती हैं। पीजी स्तर पर इसकी पढ़ाई पहले से ही विनोबा भावे विवि में हो रही है। रांची यूनिवर्सिटी के वोकेशनल समन्वयक डॉ पीके वर्मा के अनुसार इस पाठय़क्रम में लड़कियों के लिए रोजगार के कई अवसर उपलब्ध हैं। सीएनडी उत्तीर्ण छात्राएं अस्पताल, नर्सिग होम में आहार विशेषज्ञ, स्वास्थ्य क्रेंदों में आहार सलाहकार और होटलों में पौष्टिक आहार विशेषज्ञ के पदों पर नियुक्त होती हैं। इन दिनों सामान्य तौर पर अस्पतालों में आहार विशेषज्ञ के दो से पांच पद होते हैं।रिम्स के आहार विशेषज्ञ डॉ बीके श्रीवास्तव के अनुसार महानगरों में इस पाठय़क्रम की काफी मांग है। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रखंडों में नियुक्त होंगी डाइटिशियन