अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश नहीं विदेशी गेहूं का मोहताज

ेंद्रीय कृषि, खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री शरद पवार ने कहा है कि इस साल रिकार्ड उत्पादन के चलते गेहूं आयात की जरूरत नहीं पड़ेगी। बाजार में गेहूं की आवक और सरकारी खरीद में तेजी को देखते हुए चालू रबी विपणन सीजन (2008-0में 10 लाख टन की सरकारी खरीद की उन्होंने उम्मीद जताई। अभी तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 86.25 लाख टन की खरीद हो चुकी है। बुधवार को यहां राज्यों के कृषि मंत्रियों की बैठक को संबोधित करते हुए पवार ने ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि हरियाणा और पंजाब की मंडियों में आ रहे गेहूं काीसदी सरकार खरीद रही है। इसके लिए दोनों राज्यों के सहयोग की उन्होंने तारीफ की। उन्होंने कहा कि बाजार में जो भी गेहूं आएगा सरकार उसकी खरीद करगी। इसके चलते सरकारी खरीद 180 से 10 लाख टन तक भी जा सकती है। कृषि मंत्रालय ने मंगलवार को कृषि उत्पादन के तीसर आरंभिक अनुमानों में 22.73 करोड़ टन खाद्यान्न उत्पादन का अनुमान लगाया था। जिसमें गेहूं उत्पादन के 7.67 करोड़ टन के रिकार्ड स्तर पर रहने का अनुमान शामिल है। पवार ने राज्यों से कहा कि वह राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एनएफएसएम) और राष्ट्रीय कृषि विकास योजना को प्रभावी ढंग से लागू करं। इसके जरिये कम उत्पादकता वाले राज्यों में उत्पादन बढ़ाया जा सकेगा। उन्होंने कहा, जिस तरह से दो साल में खाद्यान्न उत्पादन बढ़ा है। उसके चलते हम विश्व बाजार में चल रहे संकट का फायदा उठाने की स्थिति में आ सकते हैं। वर्ष 2007-08 में खाद्यान्न उत्पादन 22.73 करोड़ टन पर पहुंच गया है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने इस साल भी सामान्य मानसून का अनुमान जारी किया है। इसके चलते आगामी खरीफ सीजन में बेहतर उत्पादन की संभावना है।केंद्रीय कृषि सचिव पीके मिश्रा ने मंगलवार को वर्ष 2007-08 के दौरान अनाज उत्पादन के संशोधित अनुमान को पेश करते हुए कहा था कि इस दौरान अनाज का रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: देश नहीं विदेशी गेहूं का मोहताज