DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीयर लीडरों के मन को चोट पहुंचा गए हम

अगर आप आईपीएल के किसी मैच की कल्पना करं तो यह मैदान के बाहर चलनेवाले साइड शो के बिना पूरी तरह साकार नहीं होती। मैदान और टीवी से चिपके दर्शकों का ध्यान जितना धुआंधार बल्लेबाजी पर होता है उतना ही विशेष दीर्घा में दमकते सितारों और बाउंड्री के बाहर मंच पर दूधिया रोशनी में तितलियों जसी इतरातीं-इठलातीं नाममात्र के कपड़े पहने फिरंगी बालाओं (चीयर लीडर्स) पर। मगर दुर्भाग्य से दूधिया रोशनी में हर चौके-छक्के पर चेहर पर मुस्कान लिये अपने नृत्य कौशल का क्षहार करतीं इन बालाओं के जेहन में कुछ कटु यादें घर करती जा रही हैं। उत्साह बढ़ानेवाली उनकी मुस्कान पर धीर-धीर भारतीय दर्शकों की अश्लील हरकतों और फिकरेबाजी भारी होती जा रही है। इनमें से एक चीयर लीडर ने इस अखबार से कहा, ‘मेरा अनुभव वास्तव में बेहद भयावह है।’ उसके मुताबिक, वह और उसके ट्रूप की अन्य सदस्यों ने पिछले एक सप्ताह के दौरान भारतीय दर्शकों के जिस बर्ताव को झेला है, उससे उनका मन वितृष्णा से भर जाता है। उाबेकिस्तान की रहनेवाली ताबिता कहती है,‘वैसे तो हम जहां कहीं भी जाते हैं, तो मालूम होता है कि लोगों की अश्लील फिकरबाजी का सामना करना पड़ेगा। लेकिन यहां लोगों ने जिस तरह की फिकरबाजी और हरकतें की हैं, उससे मैं स्तब्ध हूं। 70 साल का बूढ़ा हो या फिर 15 साल का बच्चा, वे हमार साथ अश्लील हरकत करने से बाज नहीं आते। वाकई में मैं अपने को काफी असुरक्षित महसूस करती हूं। हम यहां उनका मनोरांन करने और जाहिर है कि टूर्नामेंट को थोड़ा ग्लैमर प्रदान करने आए हैं। लेकिन हम लगातार डर और असुरक्षा के साए में रह रहे हैं।’ एक अन्य चीयर लीडर ने, जो अपना नाम बताने को लेकर चिंतित थी, कहा-‘ऐसा प्रतीत होता है कि यहां लोग हमें नैतिक रूप से पतित समझते हैं। क्योंकि वे हमें यहां अपने आप में आनंद मनाते देखते हैं। जबकि तथ्य तो यह है कि हम यहां अपना काम कर रहे हैं और हम ज्यादा कुछ नहीं थोड़ा-बहुत स्नेह और सम्मान चाहते हैं।’ वहीं दूसरी ओर, सामाजिक इतिहासकार एवं लेखक रामचन्द्र गुहा ने इस अखबार से कहा कि वास्तव में आयोजक विशाल जनसमूह के समक्ष नाममात्र के कपड़े पहनी गोरी औरतों को नचाकर भारतीय पुरुषों की वासनात्मक दृष्टि को हवा दे रहे हैं। वह कहते हैं, ‘मेरे मन में चीयर लीडर्स के खिलाफ कोई दुर्भावना नहीं है।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चीयर लीडरों के मन को चोट पहुंचा गए हम