अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐसे टूटा पीएम का सुरक्षा कवच

राँची से मंगलवार दिल्ली लौट रहे प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के विमान के साथ नजर आए ब्लिप ने नागरिक उड्डयन और वायुसेना के बीच तालमेल की गंभीर खामियों की पोल खोल दी है। साथ ही प्रधानमंत्री की सुरक्षा में बड़े-बड़े छेद भी उाागर हुए हैं। मंगलवार को दिल्ली के नभ क्षेत्र में प्रधानमंत्री के विमान के पास राडार पर नजर आए जिस ब्लिप को सिस्टम की खराबी बताया जा रहा था, दरअसल वह वायुसेना का एक डोर्नियर विमान था। इस के इलेक्ट्रोमैग्नेटिक संकेत भेजने वाले ट्रांसपोंडर में भी खराबी थी।ड्ढr पहले यह भी खबर मिली थी कि प्रधानमंत्री के ही विमान का ट्रांसपोंडर काम नहीं कर रहा था। लेकिन आश्चर्य की बात यह कि वायुसेना को अपने डोर्नियर विमान के मूवमेंट का पता नहीं था। डोर्नियर का पहला ब्लिप तब नजर आया, जब यह दिल्ली के पूर्व में 28 नॉटिकल मील दूर था। 23 नॉटिकल मील दूर दूसरी बार ब्लिप नजर आया। एटीसी कक्ष की रिकार्डिग में दर्ज जानकारी के मुताबिक पहला ब्लिप नजर आते ही एटीसी ने ज्वायंट कंट्रोल एंड एनेलिसिस सेंटर (ोसीएसी) को इसकी सूचना दे दी। जेसीएसी में वायुसेना के अधिकारी मौजूद होते हैं। वायुसेना अधिकारियों से जब पूछा गया कि क्या डोर्नियर वायुसेना का है, तो उन्होंने एसे किसी विमान के मूवमेंट की जानकारी होने से इनकार कर दिया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऐसे टूटा पीएम का सुरक्षा कवच