DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रामीणों के लिए नाबार्ड की कोशिशें जारी

ोऑपरटिव और ग्रामीण बैंकों का फायदा गांव के लोगों तक पहुंचे इसके लिए नाबार्ड की कोशिशें जारी हैं। नाबार्ड ने पिछले तीन सालों में ग्रामीणों की क्षमता वृद्धि के लिए काफी काम किए हैं। यह जानकारी देते हुए नाबार्ड के महाप्रबंधक सी पी अपन्ना ने बताया कि ग्रामीण विकास की योजनाओं का लाभ आम लोगों तक पहुंचे इसके लिए बैंक अपनी तरफ से काफी कोशिश कर रहा है। वे बुधवार को बिहार चैंबर ऑफ कामर्स में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नाबार्ड ने ग्रामीण इलाकों में र्का प्रणाली को सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। साथ ही पूर राज्य में करीब 1600 किसान क्लब गठित किए गए हैं।ड्ढr ड्ढr इस मौके पर बैंक के डीाीएम एस ए पांडेय और एस मंडल ने बैंक की र्का योजनाओं की विस्तृत चर्चा की। उन्होंने बताया कि नाबार्ड ग्रामीण इलाकों में रोजगार और आधारभूत संरचना के निर्माण के लिए भारी मात्रा में सब्सिडी दे रहा है। उन्होंने बताया कि नाबार्ड अभी कोल्ड स्टोरा के निर्माण, ग्रामीण इलाकों में गोदामों का निर्माण, कृषि उत्पादों के व्यापार के के लिए आधारभूत संरचना का निर्माण, डेयरी और पोल्ट्री उद्योग तथा एग्री क्लीनिक और एग्री बिजनेस सेंटर के विकास के लिए ऋण पर सब्सिडी दे रहा है। कार्यक्रम के आरंभ में चैंबर के अध्यक्ष ओ पी साह ने आगत अतिथियों का स्वागत किया। इस मौके पर मोतीलाल खेतान, डी पी लोहिया, युगेश्वर पांडेय, पी के अग्रवाल, गोविन्द कनोडिया, पशुपति नाथ पांडेय, एन के ठाकुर समेत बड़ी संख्या में चैंबर के सदस्य मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ग्रामीणों के लिए नाबार्ड की कोशिशें जारी