DA Image
12 जुलाई, 2020|11:02|IST

अगली स्टोरी

राजपक्षे पर सत्ता हथियाने की कोशिश करने का आरोप

राजपक्षे पर सत्ता हथियाने की कोशिश करने का आरोप

श्रीलंका की नई सरकार पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे द्वारा तख्तापलट की कोशिशों की जांच कराएगी। एक सरकारी अधिकारी ने यह जानकारी दी।

राष्ट्रपति मैत्रीपाल श्रीसेना की अगुवाई वाली सरकार के प्रवक्ता मंगला समरवीरा ने बताया कि नया मंत्रिमंडल जिस पहली चीज की जांच करवाएगा, वह है तख्तापलट और राष्ट्रपति राजपक्षे द्वारा इसकी कथित साजिश। उन्होंने कहा, राजपक्षे ने तभी इस्तीफा दिया जब सेना प्रमुख और पुलिस महानिरीक्षक ने उनका साथ देने से इनकार कर दिया।

इससे पहले नए राष्ट्रपति के मुख्य प्रवक्ता राजीत सेनारत्ने ने राजपक्षे पर आरोप लगाया था कि उन्होंने चुनाव हारने के बाद सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल दया रत्नायके पर सैनिकों को तैनात करने का दबाव डाला था। उन्होंने कहा, सेना प्रमुख पर तैनाती के लिए गहरा दबाव था लेकिन वह नहीं झुके। उन्होंने कुछ भी गैरकानूनी करने से इनकार कर दिया।

सेनारत्ने ने कहा कि अंतिम क्षण में राजपक्षे ने अपने पद पर बने रहने का प्रयास किया । लेकिन जब उन्हें अहसास हो गया कि उनके पास कोई विकल्प नहीं बचा तब ही उन्होंने हटने का फैसला किया। वहीं राजपक्षे ने नई सरकार के इस दावे को बेबुनियाद करार दिया। हालांकि सेना ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

दरअसल, राजपक्षे (69) की शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव में हार मान लेने पर व्यापक प्रशंसा हुई थी, जबकि मतगणना का अंतिम दौर चल रहा था। समरवीरा ने कहा, लोग सोचते हैं कि यह शांतिपूर्ण सत्ता परिवर्तन था। लेकिन यह कुछ और था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:राजपक्षे पर सत्ता हथियाने की कोशिश करने का आरोप