class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

33 वर्षो से छुट्टा घूम रहे घोटालेबाज !ं

गड़बड़ी और घोटाला करने वाले 33-33 वर्षो से छुट्टे घूम रहे हैं! ग्रामीण विकास विभाग में ऐसी वित्तीय गड़बड़ियों की फेहरिस्त बड़ी लंबी है। ऑडिट रिपोर्ट में गड़बड़ी उजागर हुई, प्राथमिकी की खानापूर्ति भी कर दी गयी लेकिन राशि अब भी वसूल नहीं हो सकी। पटना, दरभंगा, गया और मधुबनी ऐसे जिले हैं जहां वर्ष 1से ही सैंकड़ों ऑडिट रिपोर्टो पर धूल की परत जमी है।ड्ढr ड्ढr उनपर कार्रवाई करने वाला कोई नहीं। नीतीश सरकार ने इसे गंभीरता से लिया है। संबंधित जिलों को यह स्पष्ट कर दिया गया है कि गबन करने वालों से अब राशि वसूल कर ही दम लेगी सरकार। ऐसे में अब यह कयास लगाया जा रहा है कि गड़े मुर्दे उखाड़े जाएंगे और कइयों की गर्दन भी दबोची जाएगी। हाल ही में ग्रामीण विकास विभाग ने सभी उप विकास आयुक्तों को उनके जिलों में वर्ष 1से वर्ष 2004-05 तक के लंबित वित्त अंकेक्षण (ऑडिट) रिपोर्ट से अवगत कराया है। अधिकारियों के अनुसार दरभंगा में 100, गया में 111, मधुबनी में 104 तथा पटना जिला में 125 रिपोर्ट लंबित है जिनपर कार्रवाई होनी है। इसके अतिरिक्त अन्य जिलों में काफी बड़ी संख्या में रिपोर्ट पर कार्रवाई नहीं हुई है। उप विकास आयुक्तों को वर्ष 2005-06 तथा वर्ष 2006-07 की ऑडिट रिपोर्ट की सूची भी उपलब्ध करा दी गयी है। ग्रामीण विकास विभाग ने दो टूक कहा है कि गबन के मामलों में सिर्फ प्राथमिकी दर्ज कर अनुपालन की खानापूरी कर दी जाती है। पर, राशि की वसूली नहीं होती। उप विकास आयुक्तों को कड़ी हिदायत दी गयी है कि गड़बड़ी करने वालों से गबन की राशि वसूली की कार्रवाई भी तेज करं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 33 वर्षो से छुट्टा घूम रहे घोटालेबाज !ं