अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजे-बाजे के साथ निकली बैलून रैली

राज्य में शिक्षा का अलख जगाने के लिए एक बार फिर 24 अप्रैल को सरकारी स्कूल के हाारों छात्रों ने बैलून रैली निकाली। सभी छात्रों के हाथों में रंग-बिरंगे बैलून थे। बच्चे गाजे-बाजे के साथ आधी रोटी खायेंगे, फिर भी स्कूल जायेंगे, जन्म दिया है शिक्षा दो आदि नार भी लगा रहे थे। मौका था-स्कूल चलें हम अभियान 2008 का। बैलून रैली में शामिल बच्चों का उत्साह चरम पर था। रैली में संबंधित वार्ड के पार्षद भी शामिल हुए। डीएसइ प्रदीप कुमार चौबे समेत अन्य अधिकारी भी मुआयना कर रहे थे। स्कूल चलें हम अभियान के दौरान 27 अप्रैल की शाम मोमबत्ती रैली निकलेगी। इसमें छात्र, शिक्षक और गार्जियन हिस्सा लेंगे। स्कूल स्तर से इसकी जानकारी गार्जियन को दी जा रही है। 25 को नव नामांकित बच्चों की जन्मतिथि प्रमाणित की जायेगी। 26 को स्कूल में नुक्कड़ नाटक होगा। एक लाख से ज्यादा बच्चों की पहचान रांची। स्कूल चलें हम अभियान 30 अप्रैल तक चलेगा। 16 अप्रैल से चल रहे अभियान में एडमिशन के लिए अब तक एक लाख से ज्यादा बच्चों की पहचान की गयी है। 18 से 20 अप्रैल तक की बैठक काफी कारगर रही। इस दौरान कार्ड-स्टीकर भी दिये गये। 28 से 30 अप्रैल तक एडमिशन होगा। झारखंड शिक्षा परियोजना ने सभी जिलों को अद्यतन स्थिति से अवगत कराने का निर्देश भी दिया है। निफ्ट के छात्र बेमियादी अनशन पर बैठे83 नये पद सृजित होंगेसंवाददाता रांची रांची यूनिवर्सिटी में 83 शिक्षकों और कर्मचारियों के पदों का सृजन होगा। यूनिवर्सिटी की पोस्ट क्रिएशन एंड कंफर्मेशन कमेटी ने इसका अनुमोदन कर दिया है। पद सृजन की अनुशंसा शीघ्र सरकार से की जायेगी। 24 अप्रैल को कमेटी की बैठक वीसी प्रो एए खान की अध्यक्षता में हुई। इसमें प्रोवासी डॉ एसके राय, रािस्ट्रार डॉ एलएन भगत एवं भूगोल और गणित के एचओडी शामिल थे। खेल शाखा में पांच पदों क्रिकेट कोच, वॉलीवाल कोच, फुटबाल कोच, हॉकी कोच एवं ग्राउंड सुपरवाइजर के पद सृजित होंगे । इसके अलावा निर्मला कॉलेज में 31 शिक्षक एवं कर्मचारियों के पद और बीएस कॉलेज लोहरदगा में 47 शिक्षकों के पद सृजन का अनुमोदन कमेटी ने किया है। शिक्षकों का बकाया दो दिन में देने का निर्देश रांची यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो एए खान ने शिक्षकों के पीएचडी और महंगाई भत्ते का 50 फीसदी मूल वेतन में जोड़ने के बाद रह गये बकाये का दो दिन में भुगतान करने का निर्देश दिया है। 24 अप्रैल को वित्त विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ बैठक करते हुए वीसी ने कहा कि दो दिन में यदि भुगतान नहीं हुआ, तो कार्रवाई की जायेगी। इसके तहत संबंधित लोगो का विभाग बदला भी जा सकता है। शिक्षकों की शिकायत के आलोक में वीसी ने यह बैठक बुलायी थी। शिक्षक नेता डॉ करमा उरांव, डॉ बबन चौबे एवं डॉ जेके सिंह ने बुधवार को वीसी से मिल कर कहा कि सरकार ने बकाया राशि भेज दी है। बावजूद इसके भुगतान अब तक नहीं हो सका है। शिक्षकों की मांग पर वीसी ने वित्त विभाग के अधिकारियों से इस संबंध में जानकारी मांगी और विलंब का कारण पूछा। परंतु कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिला, तो पूर विभाग की बैठक बुला ली और भुगतान की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गाजे-बाजे के साथ निकली बैलून रैली