अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब मेधावी छात्रों का भविष्य संवारगी समिति

परीक्षा संचालन के साथ ही अब मेधावी छात्रों के भविष्य निर्माण में भी सहयोग करने लगी है बिहार विद्यालय परीक्षा समिति। गुरुवार को समिति ने पिछले साल की अपनी बचत राशि में से 5.1 करोड़ रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष में दिये हैं। इससे आईआईएम, एम्स और आईआईटी में चुने गये मेधावी निर्धन छात्रों की फीस दी जायेगी। मानव संसाधन मंत्री हरिनारायण सिंह और प्रधान सचिव अंजनी कुमार सिंह ने 1, अणे मार्ग में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सहायता राशि का चेक सौंपा। मुख्यमंत्री ने अन्य संस्थाओं और समाज के सक्षम तबके से मुख्यमंत्री राहत कोष में सहायता राशि देने की अपील की।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि परीक्षा समिति ने बेहतर प्रबंधन और पारदíशता की बदौलत गत वर्ष 25 करोड़ रुपये की बचत की है। यह अन्य सरकारी संस्थाओं के लिए भी अनुकरणीय है। विभागीय सचिव श्री सिंह ने बताया कि प्रत्येक प्रमंडल में इसी वर्ष बहुउद्देशीय परीक्षा भवन का निर्माण कराया जायेगा ताकि स्कूल की पढ़ाई बाधित नहीं हो। गड़बड़ी रोकने के लिए परीक्षार्थियों के सूचीकरण की व्यवस्था बदली जायेगी। इस वर्ष माध्यमिक और प्लस टू की परीक्षा में एक भी प्रश्न पत्र लीक नहीं हुआ। रिजल्ट मई के तीसर सप्ताह में प्रकाशित हो जायेगा। प्रमाण पत्र जारी करने के साथ ही आवेदन और शुल्क प्राप्ति के लिए कंप्यूटरीकृत व्यवस्था लागू की जायेगी। इस दौरान विधान पार्षद विनय कुमार सिन्हा और विधायक ज्ञानेन्द्र सिंह ज्ञानू भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब मेधावी छात्रों का भविष्य संवारगी समिति