अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीयर गर्ल्स पर सियासी टीयर्स

चीयर लीडर्स का डांस अब सियासत का मुद्दा बन गया है। नवी मुंबई पुलिस ने डीवाई पाटील स्टेडियम में 27 अप्रैल को मुंबई और हैदराबाद के बीच होने वाले मैच के दौरान चीयर लीडर्स को सशर्त डांस की इजाजत दे दी है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री विलास राव देशमुख ने इस डांस का समर्थन किया है, जबकि विधान परिषद के उप सभापति वसंत डावखरे ने चीयर लीडर्स के ठुमकों को बार डांसर के ठुमकों से ज्यादा खतरनाक मानते हुए सरकार से इस पर रोक लगाने का आग्रह किया। केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री प्रियरांन दासमुंशी ने भी इसे क्िलनचिट दी है। दूसरी ओर कोलकाता में राज्य के खेल मंत्री सुभाष चक्रवर्ती ने इनके डांस पर रोक लगाने की सलाह दी है। आरएसपी के वरिष्ठ नेता व पीडब्ल्यूडी मंत्री क्षिति गोस्वामी और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के वरिष्ठ नेता नंदगोपाल भट्टाचार्य ने भी इसे भारतीय संस्कृति के विरुद्ध बताया है। महाराष्ट्र सरकार ने तमाम विरोधों के बावजूद आईपीएल के मैचों के दौरान चीयर लीडर्स के डांस पर रोक लगाने का ठोस फैसला नहीं लिया है। हालांकि किसी किस्म के बवाल की आशंका के चलते हैदराबाद टीम के प्रबंधक ने अपनी चीयर लीडर्स के कपड़ों का आकार बढ़ाने का फैसला किया है। नवी मुंबई के पुलिस आयुक्त रामराव वाघ ने कहा कि मैच के दौरान स्टेडियम में 600 पुलिस के जवान तैनात रहेंगे और वे चीयर लीडर्स के डांस और पहनावे पर भी नजर रखेंगे। अगर डांस अश्लील होगा तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। राज्य के उप मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री आर.आर. पाटिल ने यह जांचने का निर्देश जारी कर दिया है कि चीयर लीडर्स के डांस अश्लील हैं या नहीं? यह जांच रिपोर्ट शनिवार को आएगी। दूसरी ओर बंगाल में आईपीएल के बहाने राज्य के खेल मंत्री सुभाष चक्रवर्ती और मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य के बीच लड़ाई एक बार फिर भड़क गई है। एक समय साल्ट लेक स्टेडियम में नेशनल फुटबाल लीग मैच के दौरान चीयरगर्ल्स के नृत्य को मंजूरी दे चुके चक्रवर्ती अब इसे भारतीय संस्कृति के खिलाफ बताते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चीयर गर्ल्स पर सियासी टीयर्स