अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोहा कांड में भू-माफिया का हाथ!

सीतामढ़ी के रड लाइट एरिया (बोहा टोला) में पिछले दिनों आगजनी, तोड़फोड़, लूट-पाट और मारपीट की वारदात भूमि माफियाओं की साजिश का एक हिस्सा है। यह बात जिले में हर ओर चर्चा का विषय है। लोगों का कहना है कि प्रोपर्टी डीलरों की नजर बोहा टोला और उसकी आसपास की कीमती जमीन पर है। बोहा टोला की घटना के बाद आयोजित शांति वार्ता में कई लोगों ने डीएम से कहा था कि उपद्रवी भीड़ में जमीन के दलाल भी शामिल थे। इसकी पुष्टि करते हुए सीतामढ़ी के एसडीओ भरत झा ने कहा कि यह पुलिस अनुसंधान से ही पता चलेगा कि हमले में कौन-कौन लोग शामिल थे और इसके पीछे किन लोगों के हाथ हैं।ड्ढr ड्ढr एसडीओ ने बताया कि रड लाइट एरिया की जमीन के वास्तविक मालिकों की छानबीन का आदेश दिया गया है। सीओ पता करंगे कि बोहा टोला की जमीन की जमाबंदी किन लोगों के नाम से है। आम लोगों में चर्चा के हवाला से श्री झा ने बताया कि बदनाम मुहल्ले के कारण बोहा टोला के आसपास शहर के सामान्य लोग परिवार बसाने से कतराते हैं। यही कारण है कि कीमती जमीन को ग्राहक नहीं मिल रहे हैं। सीतामढ़ी में जमीन के दलाल की नजर उस खाली भूखंड पर है। वे चाहते हैं कि बोहा टोला खाली हो जाय, ताकि उन्हें सौदेबाजी का मौका मिले। नगर थाना क्षेत्र में खाली पड़ी जमीन के बीच में टापू की तरह बसा बोहा टोला फैलता जा रहा है। अब जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि बोहा टोला और उसके दोनों ओर फैली मेला की जमीन किसकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बोहा कांड में भू-माफिया का हाथ!