अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्या वास्तव में ‘जहरीले इंसान’ हैं हरभजन!

ऑस्ट्रेलिया के आेपनर मैथ्यू हेडन ने इस वर्ष के शुरू में भारत के आस्ट्रेलियाई दौरे के दौरान जब ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह को एक रेडियो साक्षात्कार में ‘जहरीला इंसान’ कहा था तब उनकी इस टिप्पणी पर दुनियाभर में कडी प्रतिक्रिया हुई थी। लेकिन हरभजन के अब अपने ही देश के शांतकुमारन श्रीसंत को थप्पड़ मारने के मामले में उनके चरित्र को संदेह के घेरे में ला दिया है। ऑस्ट्रेलियाई दौरे में जब हरभजन पर ऑस्ट्रेलिया के आलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स ने नस्लभेदी टिप्पणी करने का आरोप लगाया था, तब पूरी भारतीय टीम और सारा देश हरभजन के समर्थन में खड़ा हो गया था। उस समय हालात ये भी हो गए थे कि टीम इंडिया को अपना ऑस्ट्रेलियाई दौरा रद्द करना पड़ सकता था। हरभजन पर उस समय तीन टेस्ट का प्रतिबंध लगा दिया गया था। लेकिन उनकी अपील पर फिर उन्हें केवल जुर्माना लगाकर छोड़ दिया गया था। साथ ही नस्लभेदी टिप्पणी करने का आरोप भी उन पर से हटा लिया गया था। लेकिन हरभजन ने आईपीएल टूर्नामेंट में शुक्रवार को अपनी टीम मुंबई इंडियंस की मोहाली में किंग्स इलेवन पंजाब के हाथों हार के बाद उसके गेंदबाज श्रीसंत को थप्पड़ मारकर जैसे पिछले मामलों को फिर से हरा कर दिया है। पिछले मामले तो खैर विदेशी जमीन पर हुए थे लेकिन यह मामला तो उनके अपने राय की राजधानी चंडीगढ़ के स्टेडियम में अपने ही लोगों के सामने अपने ही एक खिलाड़ी के साथ हुआ है और कोई अब इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है। जिस भारतीय बोर्ड ने ऑस्ट्रेलिया में हरभजन को बचाने के लिए अपनी सारी ताकत झोक दी थी, उसी बोर्ड ने अब उन्हें कारण बताआे नोटिस जारी कर दिया है। किंग्स इलेवन के कप्तान युवराज सिंह ने भी कहा है कि हरभजन ने बहुत गलत व्यवहार किया है और इसे बिल्कुल भी स्वीकार नहीं किया जा सकता है। इसी टीम के कोच टॉम मूडी ने कहा कि हालांकि हरभजन ने श्रीसंत के साथ लंबी बातचीत की है, लेकिन मुझे विश्वास नहीं है कि इस घटना के आगे चलकर क्या परिणाम होंगे। पंजाब क्रिकेट संघ के अध्यक्ष आई एस बिंद्रा ने भी कहा है कि इस मामले में दोषी पाए जाने पर हरभजन को बख्शा नहीं जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: क्या वास्तव में ‘जहरीले इंसान’ हैं हरभजन!