अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब बुजुर्गो की सेवा भी पाठय़क्रम में

अगर आप अपने घर के बुजुर्गों और बच्चों की सेवा को लेकर चिंतित हैं तो आपकी यह चिंता शीघ्र दूर होने वाली है। सरकार तो आपकी चिंता दूर करने में जुटी ही है कुछ और लोग भी आपके साथ खड़े दिखेंगे। कामकाजी दंपतियों के लिए भी घर का प्रबंधन अब चिंता का विषय नहीं रहेगा। अलबत्ता, इसके लिए थोड़ी जेब तो भी ढीली करनी पड़ेगी लेकिन टंच व्यवस्था होगी और वह भी प्रशिक्षित हाथों में।ड्ढr ड्ढr ‘स्कूल ऑफ क्रिएटिव लर्निग’ नामक संस्था ने ऐसे लोगों की चिंता से अवगत होकर तीन नया कोर्स विकसित किया है। ‘अरली चाइल्डहुड केयर ट्रेनिंग कोर्स’ और ‘केयर ऑफ द एजेड कोर्स’ का सिलेबस तो पहले से ही है। उक्त संस्था युवकों को इस सिलेबस के अनुसार प्रशिक्षण दिलाकर एनओआईएस(नेशनल इन्टीट्यूट ऑफ ओपेन स्कूल)से सर्टिफिकेट दिलाएगी। इसके लिए प्रशिक्षण के बाद उन्हें परीक्षा देनी होगी। ‘हाउस मैनेजर’ का कोर्स भी तैयार करने में संस्था जुटी हुई है। संस्था के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान भाग-दौड़ की जिंदगी में घर के बुजुर्ग सबसे उपेक्षित रह जाते हैं। चाहते हुए भी उनके कामकाजी बच्चों के पास इतना समय नहीं होता कि वे अपने पिता या दादा के सेंटिमेंट को समझ सकें। इन्हीं परशानियों को देखते हुए युवकों को प्रशिक्षित करने की योजना बनाई गई है। उन्हें इस बात की ट्रेनिंग दी जाएगी कि वृद्धानों से कैसा व्यवहार किया जाय ताकि जिंदगी के अंतिम पड़ाव पर उनके दिल को कोई ठेस न पहुंचे। इसके अलावा उन्हें वृद्धों के स्वास्थ्य और खानपान के बार में भी जानकारी दी जायेगी। इसी तरह बच्चों की देखभाल के लिए प्रशिक्षित आया तैयार की जाएगी तो घर संभालने के लिए होंगे हाउस मैनेजर। सबकुछ ठीकठाक रहा तो जल्द ही विशेषज्ञ अपने सर्टिफिकेट के साथ आपका दरवाजा नॉक करंगे। तब आपके चेहर पर भी इच्छित परिणाम मिलने की खुशी होगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब बुजुर्गो की सेवा भी पाठय़क्रम में