अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मतदान पर निगाह रखने को आब्जर्वर नियुक्त

बिहार विधान परिषद के शिक्षक और स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान पर निगाह रखने के लिए आब्जर्बर की नियुक्ित कर दी गयी है। निर्वाचन विभाग ने आठ वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों को बतौर आब्जर्बर अगल-अलग क्षेत्र आवंटित किये हैं। मतदान 28 अप्रैल को होना है। शांतिपूर्ण और निष्पक्ष मतदान के लिए सभी बूथों पर सशस्त्र बल की तैनाती की जाएगी। साथ ही सभी बूथों पर वोटरों की फोटो खींचने के लिए डिजिटल कैमरा और वीडियोग्राफी की व्यवस्था भी की जा रही है।ड्ढr निर्वाचन विभाग ने खनन एवं भूतत्व विभाग के प्रधान सचिव फूल सिंह को तिरहुत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र का आब्जर्बर नियुक्ित किया है।ड्ढr ड्ढr वहीं राजस्व पर्षद के अतिरिक्त सदस्य बी.बी.श्रीवास्तव को सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र, बिहार राज्य वित्त निगम के प्रबंध निदेशक आलोक कुमार सिन्हा को तिरहुत स्नातक निर्वाचन क्षेत्र, राजस्व पर्षद की अतितिक्त सदस्य अमिता पॉल को पटना स्नातक निर्वाचन क्षेत्र, वन एवं पर्यावरण विभाग के प्रधान सचिव शिशिर सिन्हा को कोसी स्नातक निर्वाचन क्षेत्र, श्रम संसाधन विभाग के प्रधान सचिव व्यासजी को दरभंगा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र, सहकारिता सचिव रविकांत को पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र तथा लघु सिंचाई विभाग के सचिव सुधीर कुमार को दरभंगा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र का ऑब्जर्बर नियुक्त किया गया है। मतगणना 30 अप्रैल को होगी। खासबात यह होगी कि मतगणना के दौरान बूथवार केवल मतपत्रों की गिनती होगी। बूथवार उम्मीदवारों की छंटनी नहीं होगी। बाद में सभी मतपत्रों को मिलाकर गणना की जाएगी कि किसे कितने वोट मिले। ड्ढr बाढ़ समस्या पर विधायकों की मदद ली जाएगी:मंत्रीड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। बाढ़ की विभीषिका से जूझने के लिए सरकार अब विधायकों की मदद भी लेगी। जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने बाढ़ समस्या के निदान और कार्ययोजना तैयार करने के लिए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विधायकों की बैठक बुलाई है। प्रमंडलीय आधार पर होने वाली यह बैठक 6, 7 और 8 मई को जल संसाधन विभाग में होगी। 6 मई को होने वाली बैठक में पूर्णिया एवं कोसी प्रमंडल के सभी विधायकों को आमंत्रित किया गया है जबकि 7 मई को दरभंगा एवं तिरहुत प्रमंडल के विधायकों की बैठक होगी। 8 मई को आयोजित बैठक में पटना प्रमंडल के साथ-साथ सारण, भागलपुर और मगध प्रमंडल के विधायकों से शामिल होने का अनुरोध किया गया है।बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विधायकों से सरकार विभिन्न पहलुओं पर ‘फीड बैक’ लेगी। यही नहीं बाढ़ के दौरान उत्पन्न समस्याओं की भी जानकारी ली जाएगी। कटाव निरोधक कार्यो के साथ-साथ तटबंधों की मरम्मत के लिए भी उनसे सुझाव लिया जाएगा। समस्या के निदान के लिए तैयार कार्ययोजना के लिए भी उनसे परामर्श किया जाएगा। बैठक के बाद विभाग प्राप्त सुझावों के आधार पर रिपोर्ट भी तैयार करगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मतदान पर निगाह रखने को आब्जर्वर नियुक्त