DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा में शह व मात का खेल शुरू

प्रदेश भाजपा में ‘शह और मात’ का खेल शुरू हो गया है। आलाकमान द्वारा रूठों को मनाने के लिए उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को हफ्ते भर की मोहलत दिए जाने की खबर मिलने पर बागी विधायक ‘वेट एंड वाच’ की स्थिति में हैं, वहीं अग्निपरीक्षा से गुजर रहा मोदी कैम्प विक्षुब्धों और अन्य ‘साफ्ट’ विधायकों को मनाने में जुट गया है। रणनीति के तहत असंतुष्ट खेमे के कई विधायक अपने-अपने क्षेत्र निकल गए हैं और दो-तीन दिन बाद पटना लौटकर फिर बैठक करंगे। इस बीच राजगीर के पावापुरी में 3 से 5 मई तक होने वाले विधायकों समेत प्रमुख नेताओं के प्रशिक्षण शिविर को स्थगित कर दिया गया है।ड्ढr ड्ढr बताया जाता है कि मौजूदा माहौल में नेतृत्व इस शिविर को कराने का हौसला नहीं कर सका। प्रभारी कलराज मिश्र द्वारा केन्द्र को रिपोर्ट सौंपने के साथ ही मोर्चाबंदी तेज हो गई है। शनिवार को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गोपाल नारायण सिंह के पटना पहुंचने पर लगभग डेढ़ दर्जन विधायक उनसे मिलने पहुंचे। उसके बाद ‘असंतुष्ट जमात’ पूर्व स्वास्थ्य मंत्री चन्द्रमोहन राय के यहां गई। दोनों जगहों पर मोदी बागियों के निशाने पर रहे। दबाव की रणनीति के तहत तय हुआ कि विधायकों का ‘जत्था’ भी दिल्ली भेजा जाए। जैसे ही सूचना मिली कि एक विधायक को मनाने उसके पीछे किसी को भागलपुर भेजा गया है, संपर्क साधकर उसे सावधान किया गया। विधायक सत्यदेव नारायण आर्य ने भी खम ठोककर कहा कि वे सभी एकजुट हैं और उनका कोई ‘साथी’ टूटना तो दूर मोदी या उनके किसी ‘दूत’ से बात तक नहीं करगा। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद से ही पारिवारिक आयोजनों में व्यस्त रहे पीएचईडी मंत्री अश्विनी चौबे भी दिल्ली जाने का मन बना रहे हैं। श्री मोदी के अलावा नन्दकिशोर यादव और रामेश्वर प्रसाद चौरसिया भी आज दिन में दिल्ली में ही थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा में शह व मात का खेल शुरू