DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गेहूं खरीद लक्ष्य में भारी फेरबदल

राज्य में गेहूं की सरकारी खरीद का लक्ष्य बदल गया है। रबी विपणन मौसम 2008-0में किसानों से सात लाख टन गेहूं खरीदा जायेगा। पहले यह लक्ष्य 5.16 लाख टन ही था। बिहार में गेहूं की अच्छी उपज की वजह से केन्द्र सरकार ने अधिक खरीद का निर्देश दिया था। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने छह एजेंसियों को नया टारगेट सौंप दिया है। तमाम जिलों में भी गेहूं खरीद के लक्ष्य में भारी फेरबदल किया गया है।ड्ढr ड्ढr राज्य में 15 अप्रैल से ही गेहूं की खरीद शुरू हो चुकी है। इस दौरान एफसीआई ने पांच हजार टन खरीद की है। राज्य में गेहूं की सरकारी खरीद का खराब रिकॉर्ड तो बढ़े हुए लक्ष्य पर सवाल उठा रहा है। वजह जिन छह एजेंसियों पर सात लाख टन का भारी-भरकम लक्ष्य है, उनमें से पांच ने गत वर्ष मात्र 12 हजार टन गेहूं की खरीद की थी। राज्य में इस बार 51.65 लाख टन गेहूं की पैदावार का अनुमान है। सबसे अधिक 53000 टन गेहूं की खरीद रोहतास से जबकि सबसे कम 3780 टन गेहूं की खरीद जमुई में होगी। पूर्वी चम्पारण में 38000 टन, पश्चिम चम्पारण में 33800 टन, सीवान में 32800 टन, सारण में 30100 टन, गोपालगंज में 200 टन, पटना में 28500 टन, भोजपुर में 28000 टन, कैमूर में 27500 टन और नालन्दा में 27000 टन गेहूं की खरीद होनी है। इसी प्रकार पैक्सों द्वारा 2 लाख टन, भारतीय खाद्य निगम द्वारा 1.5 लाख टन, बिस्कोमान द्वारा 1.25 लाख टन, राज्य खाद्य निगम और नेफेड द्वारा एक-एक लाख टन जबकि नेशनल कोलेटरल मैनेजमेंट सर्विसेज लिमिटेड (एनसीएमएसएल) द्वारा 25 हजार टन की गेहूं की खरीद होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गेहूं खरीद लक्ष्य में भारी फेरबदल