DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादियों की रिहाई का प्रयास करगा नेपाल

बिहार की जेलों में बंद माओवादियों की रिहाई के लिए नेपाल सरकार प्रयास करगी। इसके लिए नेपाल का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलेगा। यह जानकारी नेपाल की भौतिक योजना और निर्माण मंत्री तथा वहां की नेकपा (माओवादी) की नेता हिसीला यामी ने दी है। वे ‘हिन्दुस्तान’ के साथ बातचीत कर रही थीं। उन्होंने कहा कि इस दिशा में पहले से प्रयास हो रहा है लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है।ड्ढr बिहार की जेलों में दर्जनों नेपाली माओवादी बंद हैं। बातचीत में श्रीमती यामी ने काठमांडू से आंध्र प्रदेश तक माओवादियों के रड कारिडोर की अवधारणा को खयाली पुलाव करार दिया है। उन्होंने कहा कि हकीकत यह है कि रड कारिडोर की अवधारणा माओवादियों ने नहीं बल्कि नई दिल्ली के साउथ ब्लॉक ने तैयार की है। उन्होंने कहा कि भारत में सशस्त्र संघर्ष चला रहे माओवादियों के साथ केवल उनकी पार्टी की सैद्धांतिक मित्रता है। इसके अलावा उनके साथ नेकपा (माओवादी) का कोई संबंध नहीं है।ड्ढr ड्ढr लिहाजा यह सोचना कि नेपाल में माओवादियों की सरकार बन जाने से भारत के माओवादियों को मदद मिलने लगेगी, बेकार है। उन्होंने कहा कि कोई भी माओवादी पार्टी जब तक ठोस परिस्थितियों का ठोस विश्लेषण करने के बाद ठोस फैसला नहीं लेगी तबतक वह सफल नहीं होगी। श्रीमती यामी ने कहा कि लगभग दस वर्षो तक भूमिगत होकर सशस्त्र संषर्ष चलाने के बाद अब उनकी पार्टी नेपाल में सरकार बनाने जा रही है। इस बात को लेकर वेलोग काफी जिम्मेवारी महसूस कर रहे हैं। नेपाल के माओवादियों ने पुरानी संरचना को नष्ट करने और नई संरचना के निर्माण के लिए हथियार उठाया था। उन्होंने कहा कि रॉयल नेपाल आर्मी और पीपुल्स लिबरशन आर्मी के विलय होने तक नेकपा (माओवादी) के चेयरमैन प्रचंड प्रधान सेनापति बने रहेंगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माओवादियों की रिहाई का प्रयास करगा नेपाल