DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थप्पड़ नहीं मुक्का मारा

थप्पड़ प्रकरण पर सोमवार को होने वाली अति महत्वपूर्ण सुनवाई से पहले रविवार को तेज गेंदबाज श्रीसंत ने कहा कि वास्तव में हरभजन ने उन्हें थप्पड़ नहीं मुक्का मारा था। उनके इस बयान को हरभजन के खिलाफ केस मजबूत करने वाला माना जा रहा है। इस मामले में हरभजन पर कम से कम पाँच टेस्ट और 10 एकदिवसीय मैच खेलने की पाबंदी लगाई जा सकती है।ड्ढr ‘बड़ा भाई’ और ‘गलत जगह पर हैंडशेक’ जसे अपने पूर्व के बयानों से पलटते हुए श्रीसंत ने अपने गृह राज्य केरल के एक टीवी चैनल को बताया, यह थप्पड़ से कुछ अधिक था। एक तरह का मुक्का। मुझे उनसे इस तरह के व्यवहार की उम्मीद नहीं थी। मैं तो चकित रह गया। हालाँकि श्रीसंत ने यह भी कहा, मैंने उस घटना के लिए हरभजन को माफ कर दिया है।ड्ढr शुक्रवार को मोहाली में हुए आईपीएल के जिस मैच के दौरान यह घटना हुई उसके मैच रफरी रहे फारुख इांीनियर के समक्ष हरभजन को सोमवार को पेश होना है। सुनवाई के दौरान हरभजन के साथ मुंबई इंडियंस के कोच लालचंद राजपूत और टीम मैनेजर मौजूद रहेंगे जबकि श्रीसंत के साथ किंग्स एकादश पंजाब के सीईओ नील मैक्सवेल और कप्तान युवराज सिंह होंगे। इस दौरान आईपीएल के चेयरमैन और कमिश्नर ललित मोदी भी मौजूद रहेंगे। मामले की जाँच कर रहे भारत के पूर्व विकेटकीपर फारुख इांीनियर पहले ही साफ कर चुके हैं कि इस मामले को पर्दे के पीछे नहीं निपटाया जाएगा। किसी भी निर्णय पर पहुँचने से पहले शिकायत का सतर्कता के साथ परीक्षण किया जाएगा। मामले को जल्द से जल्द निपटाने की पूरी कोशिश होगी। उन्होंने कहा कि सच जानने के लिए वह इस घटना का वीडियो साक्ष्य देखने पर भी विचार करंगे। वैसे इस घटना के बाद हरभजन और श्रीसंत दोनो ने ही मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की थी। ऑफ स्पिनर का कहना था कि मामला सुलझा लिया गया है जबकि श्रीसंत ने कहा था, हरभजन उनके बड़े भाई की तरह हैं। लेकिन अब श्रीसंत के सुर बदल रहे हैं।ड्ढr बीसीसीआई इस मामले में सख्त कदम उठाने का संकेत दे चुकी है। सोमवार को सुनवाई में पेश होने के अलावा हरभजन को कारण बताओ नोटिस का जवाब भी देना है। बीसीसीआई ने उनसे पूछा है कि क्यों न इस मामले में उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। आईपीएल से उन्हें पहले ही निलंबित किया जा चुका है। हरभजन का यह कृत्य आईसीसी आचार संहिता के लेवल 4 के दोष की श्रेणी में आता है जिसमें अधिकतम आजीवन और कम से कम पाँच टेस्ट और 10 एकदिनी की पाबंदी लग सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: थप्पड़ नहीं मुक्का मारा