DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसआईटी खोलेगी अब सियासी गठजोड़ के राज़

यादव सिंह के खिलाफ एसआईटी के फरमान पर शुरू होने वाली जांच अब यूपी के कई सियासी आकाओं के गठजोड़ का भी खुलासा करेगी। कमोबेश ईडी की जांच में तो कुछ ऐसा ही सामने आने वाला है। एक बड़े सियासी नेता के भाई भी अब लपेटे में हैं। यादव सिंह और उनसे सांठगांठ रखने वाले राजनीतिक आकाओं की संपत्तियां जब्त की जाएंगी।

ईडी की अभी तक की जांच में बसपा के एक नेता के भाई से गठजोड़ का खुलासा हो चुका है। ईडी ने अब एसआईटी के फरमान के बाद प्रारंभिक जांच में जुटाई गई जानकारियों का आकलन शुरू कर दिया है। यादव सिंह की कंपनियों के खाते तलाशे जा रहे हैं। अब तक की जांच में नोएडा में एक होटल, विदेश में निवेश और बसपा के बड़े नेताओं से नजदीकियों के पुख्ता प्रमाण मिल चुके हैं। यादव सिंह के बारे में इन जानकारियोंे के आधार पर ईडी जांच शुरू करेगी। ऐसे में कई नेताओं के रिश्तेदार, भाई आदि पर आंच आना तय माना जा रहा है। ईडी इस सिलसिले में यादव सिंह की कंपनियों के खातों और नोएडा अथॉरिटी के प्लॉटों की बिक्री की रकम में संबंध तलाश कर रही है।

ईडी के अधिकारियों ने कहा कि इस संबंध में केस दर्ज करने या न करने की अब जरूरत नहीं है। हर प्रगति की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को भेजी जाएगी। साथ ही संपत्तियां जब्त करने की भी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान भी यादव सिंह के नजदीक रहे नेताओं पर अब गाज गिरना तय है। यादव सिंह और उनके गठजोड़ से कौन-कौन सी संपत्तियां अजिर्त की गई, इसका ब्योरा जुटाकर संपत्तियों को जब्त किया जाएगा।

इनसेट--
ईडी ने जुटाना शुरू किया काल डिटेल
ईडी ने प्रारंभिक जांच के लिए यादव सिंह, उनके बेटे शनि यादव समेत कई अन्य लोगों की संपत्तियों का ब्योरा जानने के लिए उनकी मोबाइल फोन की काल डिटेल खंगालनी शुरू की है। इस संबंध में दूरसंचार कंपनियों से मदद मांगी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसआईटी खोलेगी अब सियासी गठजोड़ के राज़