DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दुओं के स्वाभिमान से जुड़ा है नेपाल का अस्तित्व

पूर्व केन्द्रीय राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानन्द ने कहा कि विश्व के एकमात्र आस्था के राष्ट्र नेपाल के अस्तित्व को मिटाने की कोशिश हो रही है। माओवादी ताकतें चीन के इशार पर कार्य कर रही हैं। हिन्दुओं को एकजुट होकर नेपाल के अस्तित्व को बचाना होगा क्योंकि नेपाल का अस्तित्व हिन्दुओं के स्वाभिमान से जुड़ा है। अंतिम दिन 13 सूत्री प्रस्ताव पारित किये गये।ड्ढr पूर्व केन्द्रीय मंत्री रविवार को माँ पाटेश्वरी शक्ितपीठ तुलसीपुर में आयोजित विश्व हिन्दू महासंघ के अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित कर हर थे। उन्होंने कहा कि हमार मौन ने ही माओवादियों को ताकत दी है। नेपाल भौगोलिक, सांस्कृतिक, आस्था व व्यवस्था भी दृष्टि से अलग नहीं है। नेपाल हिन्दू राष्ट्र रहे यह विश्व के प्रत्येक हिन्दू की जरुरत है। अन्तरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष व भाजपा सांसद योगी आदित्य नाथ ने कहा कि हिन्दुओं को प्रतिक्रियावादी बनना होगा।मंदिरों में जाकर सिर्फ पूजा करने से धर्म की रक्षा नहीं होगी बल्कि हिन्दुओं को संघर्ष का रास्ता अपनाना होगा। हिन्दू विरोधी ताकतों को उन्हीं की भाषा में जवाब देना होगा। जगतगुरु पमानन्दाचार्य ने कहा कि जिस धर्म के लोगों में एकता नहीं होगी वह समाप्त हो जाएगा।ड्ढr आयोजक व विधायक कौशलेन्द्र नाथ ने कहा कि देश में माओवाद व आतंक़वाद सिर उठा रहा है। हिन्दू संस्कृति निशाने पर है।ड्ढr हिन्दुओं को एकजुट होकर संघर्ष करना होगा। सम्मेलन के दौरान नेपाल के हेम बहादुर कार्की को पाँच वर्षो के लिए अन्तरराष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया।ड्ढr निवर्तमान अध्यक्ष भक्त केशर सिंह को संगठन का मार्गदर्शन बनाए रखने का भी प्रस्ताव पारित हुआ।ड्ढr इस मौके पर महंत धर्मदास, महंत ज्ञानदास, सुरन्द्र नाथ, महंत जयराम भारती, महंत सुरश दास, देव मुरारी बापू तथा नेपाल दिवाकर चन्द्र, प्रमोद चौरसिया उपस्थित रहे। अंतिम दिन 13 सूत्री प्रस्ताव पारित किये गये।यह जानकारी देते हुए वरिष्ठ उपाध्यक्ष दिवाकर चन्द्र ने बताया कि नेपाल की अंतरिम सरकार द्वारा हिन्दू राष्ट्र के स्थान पर नेपाल को धर्म निरपेक्ष राष्ट्र घोषित करने की बात की भर्त्सना की गई। तिब्बत में चीन की घुसपैठ और तिब्बती संस्कृति के ऊपर हमले की भर्त्सना की गई। यह प्रस्ताव भी किया गया कि भारत सरकार रामसेतु न तोड़े। सदस्यों की संख्या बढ़ाई जाय, हिन्दुओं, धर्मस्थलों, मंदिरों और आबादी आदि के सम्बन्ध में एक पुस्तिका तैयार की जाय। विश्व हिन्दू महासंघ को एकमात्र पंजीकृत हिन्दू अब्रैला (छातों) संघ घोषित किया जाय।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हिन्दुओं के स्वाभिमान से जुड़ा है नेपाल का अस्तित्व