DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुछ लोगों के दिमाग में भूत घुसा, बुद्धि दाव से करेंगे ठीक

शताब्दी समारोह में भाग लेने पहुंचे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गंगा और गाय दोनों की सुरक्षा का संकल्प लेते हुए कहा कि लोहिया के जमाने से ही समाजवादी स्वच्छ गंगा के लिए काम कर रहे हैं। सपा सरकार ने गाय की रक्षा के लिए कड़ा कानून बनाया है। चाहे कोई भी हो इस कानून को तोड़ते हुए जो भी पकड़ा जाएगा उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कुछ लोगों के दिमाग में एक भूत घुस गया है सपा मुखिया ने चरखा दाव से अच्छे-अच्छे लोग ठीक किए। अब इस भूत को ठीक करने के लिए बुद्धि दाव का इस्तेमाल होगा।    

   
शताब्दी समारोह के अंतिम दिन कथा पंडाल में संतों के बीच पहुंचे मुख्यमंत्री ने गंगा सफाई अभियान पर कहा कि समाजवादी सरकार ने गंगा को साफ सुथरा बनाने के लिए पहले से ही काम शुरू कर रखा है। इलाहाबाद के कुंभ मेले में उन्होंने गंगा की सफाई और लोगों को पवित्र पानी उपलब्ध कराने में सफलता प्राप्त की। विदेशों में भी इसकी सराहना हुई। उन्होंने गंगा की गंदगी के लिए बड़े लोगों को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि बड़े लोगों के उद्योग गंगा को गंदा कर रहे हैं। प्रदेश के गरीब इसके लिए जिम्मेदार नहीं हैं। लोहिया जी ने स्वच्छ गंगा पर गंगा में नहाओ और मिल बांटकर खाओ का नारा दिया था। समाजवादी अभी भी इसी विचारधारा पर काम कर रहे हैं। कार्यक्रम में सांसद तेजप्रताप यादव, सदर विधायक राजकुमार यादव ने भी विचार व्यक्त किए।  

गौरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है यूपी सरकार
उन्होंने गाय रक्षा के लिए कामधेनु योजना का जिक्र भी किया और कहा कि यूपी दूध का सबसे बड़ा बाजार बन गया है। उन्होंने गाय रक्षा पर सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए श्रवस्ती जिले का किस्सा सुनाया। कहा कि उन्होंने बिना बताए श्रवस्ती जिले का निरीक्षण किया और एक आदमी से पूछा कि उत्तर प्रदेश में सपा कैसे हार गई तो उस आदमी ने जवाब दिया कि सरकार ने बहुत जानवर कटवा दिए। ऐसा दुष्प्रचार सरकार के खिलाफ हुआ जबकि सपा सरकार ने गौ रक्षा के लिए कड़ा कानून लागू किया है। कार्रवाई हो रही है। इस कानूृन को जो भी तोड़ेगा उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

कुछ लोग पैदा कर रहे समाज में खाई
 मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता ने जो भरोसा सपा सरकार पर किया है उस भरोसे पर सरकार खरा उतरेगी। सभी धर्माें का रास्ता एक है मगर कुछ लोग समाज में खाई पैदा करना चाहते हैं। सब मिलकर देश चलाएं तभी देश तरक्की करेगा। विचारों से जब तक शुद्ध नहीं होंगे सबको बराबरी का दर्जा नहीं मिलेगा तब तक सबका विकास नहीं हो सकता।  


मुख्यमंत्री ने संत समाज की दिल खोलकर की तारीफ
मुख्यमंत्री ने संत समाज की जमकर तारीफ की । कहा कि संतों का आशीर्वाद जिसे मिलता है उसके तमाम बिगड़े काम ठीक होते हैं। परेशानियां, रुकावट दूर हो जाती हैं। उन्हें मैनपुरी में शताब्दी समारोह में शामिल होने का मौका मिला है। संतों का आशीर्वाद उन्हें भी मिलेगा। यहां परिक्रमा करने का भी उन्हें मौका मिला।

एकरसानंद महाराज के अनुयायी देशभर में शिक्षा के क्षेत्र में आदिवासियों को समाज की मुख्य धारा में लाने का काम कर रहे हैं। शिक्षा के क्षेत्र में काम हो ये समाजवादी विचारधारा ही है। सरकार ने लैपटॉप बांटे, पेंशन योजनाएं चलाईं, पानी मुफ्त कर दिया, सर्वाधिक विकास कार्य मैनपुरी में हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि गाइड, संत, नेता अच्छे होंगे तो अच्छे रास्ते मिलेंगे। नेताजी के संघर्ष के दिनों में मैनपुरी ने हमेशा साथ दिया। नेताजी का मैनपुरी से भावनात्मक रिश्ता रहा है। मैनपुरी के सहयोग से ही सपा आगे बढ़ी है। सपा को मैनपुरी पर बहुत भरोसा है।  

मुख्यमंत्री का वादा यूनीवर्सिटी के लिए करेंगे मदद
स्वामी हरिहरानंद महाराज की मांग पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में एकरसानंद यूनीवर्सिटी की स्थापना संस्था करे । सरकार हर संभव मदद तो करेगी ही साथ अलग से भी यूनीवर्सिटी की स्थापना के लिए मदद देंगे। उन्होंने गौ रक्षा का संकल्प भी दोहराया।  

महामंडलेश्वर ने मुख्यमंत्री का जताया आभार
कार्यक्रम में निर्वाणाधीश्वर विशोकानंद महाराज ने कहा कि गौ माता का सम्मान करें। ये धर्म नहीं है कि हम ईश्वर की पूजा तो करें लेकिन ईश्वर की बनाई हुई वस्तुओं से द्वेष करें। उन्होंने अपील की कि मुख्यमंत्री अपने पूर्वजों की तरह साधुओं के स्वाभिमान और सम्मान की रक्षा करें।

महामंडलेश्वर आत्मानंद सरस्वती ने शताब्दी समारोह के आयोजन को बड़ी उपलब्धि बताया और कहा कि परमात्मा को तो किसी ने नहीं देखा लेकिन संत का दर्शन जो भी करता है वो खाली नहीं जाता है। महामंडलेश्वर स्वामी हरिहरानंद महाराज ने समारोह की पूर्ण आहुति के समापन पर मुख्यमंत्री को आने के लिए आभार जताया और कहा कि स्वामी शारदानंद सरस्वती महाराज की कृपा से ये आयोजन संपन्न हुआ। उन्होंने मुख्यमंत्री से गौ माता को सुरक्षित रखने और एकरसानंद यूनीवर्सिटी की स्थापना करने का वचन मांगा।  

श्रद्धालुओं की परेशानी देख भड़क गए स्वामी हरिहरानंद
एकरसानंद नगर में मुख्यमंत्री के आगमन पर श्रद्धालुओं को कड़ी पुलिस व्यवस्था से परेशानियों का सामना करना पड़ा। मुख्यमंत्री दो बजे पहुंचे लेकिन पूर्वा? 11 बजे ही मुख्य गेट पर प्रवेश वजिर्त कर दिया गया। लोग प्रवेश नहीं पा सके तो शिकायत हरिहरानंद महाराज से की गई।

 कथा पंडाल के मंच से हरिहरानंद ने इस पर गहरी नाराजगी जताई और पुलिस को चेतावनी दी कि यदि श्रद्धालुओं को रोका गया या परेशान किया गया या परिसर से हटाया गया तो वे कार्यक्रम छोड़ देंगे और पुलिस का विरोध करेंगे। हरिहरानंद के तेवर देख पुलिस के होश उड़ गए और कुछ समय के लिए हो रही रोक-टोक बंद कर दी गई। हालांकि मुख्य प्रवेश द्वार से फिर फिर भी अंदर प्रवेश करने की इजाजत नहीं मिली। जिससे श्रद्धालुओं को घंटों इंतजार करना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुछ लोगों के दिमाग में भूत घुसा, बुद्धि दाव से करेंगे ठीक