DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अलगाववादियों के खेमे में मैं बाहरी व्यक्ति था

अब वह ‘आजादी’ की नहीं,  विकास की बात करते हैं। अभी कुछ समय पहले तक उनकी गिनती अलगाववादी नेताओं में होती थी,  लेकिन सज्जाद गनी लोन एक बार फिर जम्मू-कश्मीर के हडवारा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। इसके पहले उन्होंने 2009 के लोकसभा चुनाव में भी भाग लिया था,  लेकिन तब नेशनल कांफ्रेन्स के उम्मीदवार से हार गए थे। पिछले दिनों वह तब चर्चा में आए,  जब उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेताओं समेत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इसके बाद से यह माना जाने लगा कि भाजपा राज्य में सरकार बनाने के लिए उनकी मदद ले सकती है। जम्मू-कश्मीर में चल रहे चुनाव प्रचार के दौरान सज्जाद से बात की तौफीक रशीद ने। बातचीत के अंश-

- क्या इस बार का विधानसभा चुनाव सज्जाद लोन के लिए निर्णायक साबित होने वाला है?
यह ऐसी धारणा है,  जिसे मेरे विरोधी फैला रहे हैं। यह बात जरूर है कि यह चुनाव बहुत महत्वपूर्ण साबित होने वाला है,  लेकिन यह राजनीति है,  यहां कुछ भी अंतिम नहीं होता। ये मेरे अपने जीवन का एक नया दौर है,  और इस बार मैंने काफी ज्यादा मेहनत से चुनाव प्रचार भी किया है। मुझे इस बात का पूरा-पूरा विश्वास है कि जनता इस बार हमें एक मौका देगी।
- आप बहुत उम्मीद दिखा रहे हैं,  जबकि आपके विरोधी चुनाव के बाद भारतीय जनता पार्टी के साथ आपके गठजोड़ की बात कर रहे हैं?
ये सारी बातें पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और नेशनल कांफ्रेन्स के लोग फैला रहे हैं। उनके अनुसार मैं भाजपा के साथ गठजोड़ बनाने जा रहा हूं। वे इसका प्रचार कर रहे हैं,  लेकिन मुझे पक्का विश्वास है कि जनता सच जानती है और इस बार वह हंडवारा में मुझे जिस अंतर से जिताएगी,  उतना कभी देखने को न मिला होगा।
- आप कश्मीर को विशेष दर्जा देने के बहुत बड़े हिमायती रहे हैं,  जबकि भाजपा अनुच्छेद -370 के खिलाफ है?
आने वाले समय में मैं अपनी तरफ से कश्मीर की लोगों की हिमायत का एक नया दौर शुरू करूंगा। मैं कुछ नहीं भूला हूं। न आम्र्ड फोर्स स्पेशल पॉवर ऐक्ट को और न अनुच्छेद-370 को। मैं चुनावी लफ्फाजी नहीं करता। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और नेशनल कांफ्रेन्स वाले अनुच्छेद-370 की बात जरूर करते हैं,  लेकिन इसे सबसे ज्यादा नुकसान उन्होंने ही पहुंचाया है।

- फिर नरेंद्र मोदी से आपकी मुलाकात को लेकर इतना बवाल क्यों हुआ?
क्या पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और नेशनल कांफ्रेन्स के नेता भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से नहीं मिलते?  लेकिन जब मेरे जैसा एक आम आदमी प्रधानमंत्री से मिलता है,  तो उन्हें यह स्वीकार नहीं होता। दो साल से मेरी बीवी और बच्चे पाकिस्तान में हैं,  उन्हें वीजा नहीं मिल रहा। मैंने इसके लिए गृह मंत्री से मिलने की बहुत कोशिश की,  लेकिन मुझे इजाजत नहीं मिली। पिछली सरकार हमें नापसंद करती थी,  इसलिए इस बार मुझे जब प्रधानमंत्री से मिलने का मौका मिला,  तो उन्होंने हंगामा कर दिया।

- एक तरफ तो आप राजवंश को खत्म करने की बात करते हैं,  दूसरी तरफ आप खुद पिता की विरासत पर खड़े हैं?
मैं अपने पिता का बेटा हूं,  लेकिन मैं एक आम आदमी हूं। जब मेरे पिता की हत्या हुई थी,  तब मुझे कोई जानता तक नहीं था। आज मैं जहां पर हूं,  उसके लिए मैं 800 से 900 गांवों में पैदल चलकर गया हूं। जब मेरे पिता की हत्या हुई,  तब हमारे साथ कोई नहीं था और उस समय हम चुनाव भी नहीं लड़ रहे थे। मुझ पर किसी का वरदहस्त नहीं रहा है और मैं खुद अपनी गलतियों से सीखता हुआ यहां तक पहुंचा हूं।

- कहा जाता है कि जब आपके पिता की हत्या हुई,  तब वह चुनाव लड़ने पर विचार कर रहे थे?
यह पूरी तरह गलत है। उनकी हत्या से एक दिन पहले ही मेरी उनसे बात हुई थी। उनकी सोच बिल्कुल साफ थी,  वह चुनाव लड़ने नहीं जा रहे थे।

- जब आपके पिता का निधन हुआ,  तब वह अलगाववादी थे,  फिर आपने चुनाव की प्रक्रिया में शामिल होने का फैसला कैसे किया?
लोगों की जरूरतों के कई आयाम होते हैं,  उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं एक बड़ा सवाल हैं। लोग चाहते हैं कि विकास की उनकी वे जरूरतें पूरी हों,  जो अभी तक बकाया हैं। सत्ता राजनीतिक इकाई के साथ ही आर्थिक इकाई की तरह भी काम करती है। और मुझे लगता है कि अगर लोगों का आर्थिक सशक्तीकरण हो,  तो उनका राजनीतिक सशक्तीकरण भी होगा।

- आप अपने पुराने विचारों और अपनी नई राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के बीच तालमेल कैसे बिठाते हैं?

अलगाववादियों के खेमे में मैं एक बाहरी व्यक्ति की तरह था,  इसलिए मैंने रास्ता बदलकर लोगों की मदद करने का फैसला किया। मैं खुद अपनी सोच,  अपने भीतर की आवाज का एक विस्तार बना रहूंगा। मेरी पार्टी अनुच्छेद-370 को मजबूत बनाने के लिए काम करती रहेगी और उन सारे मुद्दों को उठाती रहेगी,  जिसका नाता कश्मीर के लोगों की जरूरतों से है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अलगाववादियों के खेमे में मैं बाहरी व्यक्ति था