DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिल्म रिव्यू: एक्शन जैक्सन

अपनी पहली ही फिल्म ‘वॉन्टेड’  से ब्रांडेड निर्देशकों की सूची में आये प्रभु देवा की ये चौथी फिल्म है,  जिसमें नया कुछ खास नहीं है। घूंसे जड़ता वही हीरो है,  चहकती-मटकती हीरोइन,  जोरदार-तेज विलेन,  कानफोड़ पार्श्व संगीत और थिरकन पैदा करते कुछ गीत। हां,  कहानी भी लगभग वही है,  जो 70-80 के दशक में आम फिल्मों की हुआ करती थी। मसाला फिल्मों के साथ यही होता है। उनमें तकरीबन नया कुछ नहीं होता। फिर भी ‘एक्शन जैक्सन’  कई हिस्सों में लुभाती है,  बांधे रखती है।

विशी (अजय देवगन)  मुंबई में रहने वाला एक मनमौजी-मस्तमौला लड़का है,  जो बात-बात में लड़ाका बन जाता है। एक दिन जब वह खुशी (सोनाक्षी सिन्हा)  नामक लड़की से टकराता है तो खुशी की किस्मत खुल जाती है,  क्योंकि खुशी को सब पनौती समझते हैं। दोनों के बीच प्यार होता है और इतने में ही तीन-चार गाने निर्देशक ने निपटा दिये। इंटरवल से जरा पहले एजे (अजय देवगन)  यानी विशी के हमशक्ल की खुल कर एंट्री होती है,  जिसकी फ्लैशबैक में अपनी एक कहानी है। एजे एक खूंखार क्रिमनल है,  जो कभी जेवियर (आनंद राज)  नामक गैंगस्टर के लिए काम करता था। दोनों के बीच पंगा हुआ मरीना  (मनस्वी ममगई)  को लेकर,  जो एजे से प्यार करती थी। एजे मरीना के प्यार का ऑफर ठुकरा देता है,  क्योंकि वह अनुषा  (यामी गौतम)  से शादी करने वाला है। जेवियर अनुषा को मरवा देता है और फिर शुरू  होता है एक्शन जैक्सन का खूनी खेल।

बेशक फिल्म की कहानी में कोई नयापन नहीं है,  लेकिन जिन हिचकोलों के साथ प्रभु देवा ने कहानी कही है,  वह काफी जगह इम्प्रेस करती है,  खासतौर से इंटरवल के बाद। यहां यह कहना भी ठीक रहेगा कि अगर इंटरवल से पहले की फिल्म आप छोड़ भी दें तो खास नुकसान नहीं होगा,  क्योंकि आप अपना सिर पकड़ लेंगे और कहेंगे कि यार ये क्या हो रहा है। दरअसल,  एजे और विशी के किरदार खुलते ही इंटरवल के बाद हैं। ‘एक्शन जैक्सन’ में प्रभु देवा स्टाइल की कॉरियोग्राफ फाइट है,  जिसमें स्पेशल इफेक्ट्स की भरमार है। कॉमेडी भी उनकी पिछली फिल्मों जैसी ही है। गीत-संगीत का फिल्मांकन और डायलॉगबाजी भी,  लेकिन उन्होंने अजय देवगन के साथ पहली बार काम किया है, इसलिए अजय देवगन ने इन तमाम चीजों को अपना स्टाइल दिया है।

अपनी फिल्म की कहानी को प्रभु देवा संभवत: पहली बार विदेश लेकर गए हैं,  इसलिए उन्होंने विदेशी लोकेशंस का भी भरपूर इस्तेमाल किया है। लग्जरी होटलों के कमरों से लेकर महलनुमा आलीशान प्राइवेट घर,  लग्जरी स्पोर्ट्स कारें, स्टाइलिश कपड़े आदि उनकी फिल्म को स्टाइलिश लुक देते हैं। फिल्म में एजे का किरदार काफी हद तक क्विंटन टोरेंटिनो की फिल्म ‘किल बिल’ की ‘द ब्राइड ब्लैक मांबा’ से मिलता-जुलता है। खासतौर से वो सारे सीन्स,  जिनमें एजे को सैमुराई थामें येलो-गोल्डन रंगों से सराबोर किसी मशीन की तरह खून की नदियां बहाते दिखाया गया है। आप इसे आज के जमाने की बेहतरीन पैकेजिंग कह सकते हैं। यहां उस लुक की भी तारीफ करनी होगी,  जो उन्होंने मरीना और जेवियर के किरदारों को दिया है।

हालांकि जेवियर के किरदार में नए एक्टर आनंद राज कुछ खास प्रभावित नहीं कर पाए हैं,  लेकिन इसके उलट मॉडल रह चुकी मनस्वी ममगई ने जरूर अपनी जगह बनाए रखी है। वह पूरी फिल्म में ग्लैमरस लगने के साथ-साथ खौफ भी पैदा करती दिखती हैं। सोनाक्षी सिन्हा के खाते मटकने के सिवा कुछ नहीं आया है और अजय ने शुद्ध मसाला एक्टिंग की है। कुणाल रॉय कपूर कॉमेडी करते ठीक-ठीक से लगते हैं। फिर भी ‘एक्शन जैक्सन’  बेहद कमजोर कहानी-पटकथा के अभाव से ग्रस्त नजर आती है,  जिसमें दमदार अभिनय की कमी भी खलती है। फिल्म केवल अपनी पैकेजिंग और बड़े कैनवास की वजह से अपील करती है।

कलाकार:  अजय देवगन,  सोनाक्षी सिन्हा,  यामी गौतम,  मनस्वी ममगई,  आनंद राज,  कुणाल रॉय कपूर,  पुरु राजकुमार
निर्देशक:  प्रभु देवा
निर्माता:  गोरधन तन्वानी, सुनील ए. लुल्ला 
संगीत:  हिमेश रेशमिया
गीत:  शब्बीर अहमद,  समीर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिल्म रिव्यू: एक्शन जैक्सन