DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नरेंद्र मोदी के खौफ से नीतीश ने दिया इस्तीफाः सुशील मोदी

नरेंद्र मोदी के खौफ से नीतीश ने दिया इस्तीफाः सुशील मोदी

भाजपा नेता सह बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा है कि जिस उद्देश्य से झारखंड का गठन हुआ, वह विफल हो गया। राजनीतिक अस्थिरता दुर्दशा का कारण बना। झारखंड दवा, चारा, भूमि, अलकतरा सहित तमाम घोटालों का केंद्र रहा है। अलग राज्य बनने के बाद भी झारखंड के नेता लूटते रहे।

मुख्यमंत्री से लेकर विधायकों को जेल जाना पड़ा। जबकि साथ बने छत्तीसगढ़ में संसाधन कम था, पर स्थायी सरकार थी। इस कारण वह विकसित राज्यों की श्रेणी में आ गया। आज छत्तीसगढ़ दूसरे राज्यों को बिजली दे रहा है। मोदी शुक्रवार को भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बिहार में बहुमत मिला तो विकास हुआ। जब गठबंधन टूटा तो विकास ठप हो गया। झारखंड में केंद्र से सहयोग वाली सरकार चाहिए। प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा सांसद रामकृपाल यादव भी मौजूद थे।

नीतीश को मालूम है गठबंधन की भद्द पिटेगी
मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार को मालूम है कि झारखंड में गठबंधन की भद्द पिटेगी। इस कारण वे चुनाव प्रचार में अब तक नहीं आए। दिल्ली में नीतीश की पार्टी ने 28 सीटों पर चुनाव लडम। इसमें 26 की जमानत जब्त हो गई। हरियाणा में जदयू के दो उम्मीदवार थे। इसमें एक को 37 और दूसरे को 150 वोट ही मिले।

झारखंड में कांग्रेस, राजद और जदयू का गठबंधन है। पर काफी सीटों पर एक दूसरे के खिलाफ चुनाव लडम् रहे हैं। नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी के खौफ से इस्तीफा दिया। अब वे नरेंद्र मोदी की डर से लालू प्रसाद की गोद में बैठ गए हैं और अपनी पार्टी को खत्म करने का निर्णय लिया है। भाजपा का चुनाव पूर्व गठबंधन सही है।

विलय के पीछे सिद्धांत और नीति नहीं
मोदी ने कहा कि बिहार में राजद-जदयू विलय में नीति और सिद्धांत नहीं है। जनता लालू प्रसाद को सत्ता में लौटते नहीं देखना चाहती है। लालू प्रसाद के पास कभी 150 सीटें होती थीं, अब 24 सीट पर ही सिमट कर रह गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नरेंद्र मोदी के खौफ से नीतीश ने दिया इस्तीफाः सुशील मोदी