DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नासा ने किया ओरायन का सफल परीक्षण

नासा ने किया ओरायन का सफल परीक्षण

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने शुक्रवार को अपने मानव रहित मंगल मिशन ओरायन का प्रक्षेपण किया। आने वाले सालों में मंगल जैसे अंतरिक्षीय गंतव्यों पर लोगों को ले जाने से पहले यह एक अहम परीक्षण उड़ान मानी जा रही है। यूनाइटेड लॉंच अलायंस डेल्टा फोर हेवी रॉकेट के जरिए मानवरहित अंतरिक्षयान ओरायन ने सुबह सात बजकर पांच मिनट पर (भारतीय समयानुसार सुबह पांच बजकर पैतीस मिनट)  अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी। रॉकेट के प्रक्षेपित होते ही कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र में खुशी का आलम कायम हो गया।

ओरायन के कार्यक्रम प्रबंधक मार्क गेयेर ने कहा कि यह देखना काफी सुखद था कि रॉकेट ने इतना बेहतरीन प्रदर्शन किया। प्रक्षेपण स्थल के पास होकर,  और रॉकेट यदि इतना बड़ा हो तो आप इसे महसूस कर सकते हैं। चंद्रमा से आगे इंसान को ले जाने के मकसद से यह किसी अमेरिकी अंतरिक्षयान की 40 सालों से ज्यादा समय में पहली उड़ान है। ये अंतरिक्षयान अपनी उड़ान में दो बार पृथ्वी के चक्कर लगाएगा और फिर कैलिफोर्निया के सैन डियागो के किनारे गिर जाएगा। नासा के प्रशासक चार्ल्स बोल्डेन ने शुक्रवार के प्रक्षेपण से पहले कहा कि मेरा मानना है कि यह दुनिया के लिए, अंतरिक्ष को समझने और उसे प्यार करने वालों के यह एक बड़ा दिन है।

 
नासा के प्रशासनिक अधिकारी चार्ली बोल्डेन ने कहा कि करीब 40 वर्षों के कठिन प्रयास के बाद अमेरिका एक ऐसा यान भेजा है जो अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी की करीब की कक्षा से बहुत दूर अंतरिक्ष में ले जाएगा।  साढे चार घंटे की परीक्षण उडान के दौरान यान के उष्मारोधी कवच, पैराशूट और अन्य प्रणालियों की जांच परख की जाएगी ताकि यह अपने साथ ले जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष की सैर कराके धरती पर सुरक्षित वापस ला सके।

इसके अंदर 1200 से भी अधिक सेंसर लगे हुए हैं जिनके जरिए सभी आंकडे़ नियंत्रणकक्ष को भेजे जाएगें। राकेट ओरियन कैप्सूल को परीक्षण उडान के दौरान 5800 किलोमीटर ऊपर अंतरिक्ष में ले जाएगा, यह दूरी स्पेस स्टेशन की मौजूदा स्थिति से 15 गुना अधिक होगी। गौरतलब है कि नासा का पहला मानव युक्त अभियान चंद्रमा पर वर्ष 1972 में भेजा गया अपोलो अभियान था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नासा ने किया ओरायन का सफल परीक्षण