DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोटी ,कपड़ा और मकान की उलझन ने सोनिया को झकझोरा

रोटी, कपड़ा और मकान की उलझन ने इस कदर झकझोरा कि सोनिया बोल पड़ीं आज बात करूंगी। दो दिवसीय दौरे के दौरान गुरुवार को सोनिया गांधी फुरसतगंज एयरपोर्ट से सीधे मालिन का पुरवा पहुंचीं जहां लोगों ने उन्हें घेर लिया। यहां के बीएल पाल ने बताया कि राजीव गांधी महिला विकास परियोजना बंद हो गई है। इससे चार सौ महिलाएं बेरोजगार हो गईं हैं। इस पर उन्होंने ओएसडी धीरज को बुलाकर कहा देखो इसको नोट करो। इसके बाद उनका काफिला दोहरी गांव पहुंचा। गांव की दुर्दशा देख वे दंग रह गईं। लोगों से उन्होंने पूछा मनरेगा में काम मिलता है, जबाब मिला नहीं। गुलाबकली, सीमा और रंजीत के घर जाकर उनके परिजनों से बात की। वहीं फूस की झाेपड़ी में रह रहा विजय हाथ पकड़कर उन्हें अपने घर ले गया। झाेपड़ी को देख सांसद गांधी ने कहा कि इसे किसी योजना से लाभ नहीं मिला। इसे नोट करो आज बैठक में बात होगी। गोंदवारा गांव में रामकुमार ने कहा कि सालों से राशन नहीं मिला है। कई बार अधिकारियों से कहा कि लेकिन कार्ड नहीं बनाया गया। प्राथमिक स्कूल पूरे मद्धू के सामने खड़े बच्चाों को देख वे उनके पास पहुंचीं तो बच्चाों ने बताया कि मिड-डे-मील नहीं मिलता है। इस पर सोनिया ने प्रधानाचार्य से पूछा ऐसा क्यों हो रहा है। प्रधानाचार्य ने बताया कि कनवजर्न कास्ट नहीं मिली है। अक्तूबर से पूरी तरह से बंद है जबकि कनवजर्न कॉस्ट अगस्त 2013 से नहीं मिली है। इतना सुनते ही उनके माथे पर बल पड़ गये, बोली सब होगा। अभी बैठक में बात की जायेगी। मनरेगा, आवास, पेयजल,सार्वजनिक वितरण प्रणाली के साथ ही मिड-डे-मील की हालत देख सोनिया ने कहा कि आज बैठक में हर योजना पर बात होगी। उनके चेहरे पर आया तनाव साफ कह रहा था कि बुनियादी सुविधाओं से वंचित परिवारों को उनका हक दिलाने के लिए वे सरकार से बात जरूर करेंगी। वहीं लोगों ने भी उन्हें घेर कर बात की। फिलहाल पहले दिन ही योजनाओं की खस्ताहालत ने सांसद के माथे पर बल ला दिये ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रोटी ,कपड़ा और मकान की उलझन ने सोनिया को झकझोरा