DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर प्रदेश का आर्म्स तस्कर पटना में गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश का आर्म्स तस्कर वीरेश शर्मा गुरुवार को पटना पुलिस के हत्थे चढ़ गया। वीरेश के पास से 315 बोर की 120 राउंड गोलियां मिली हैं। सभी गोलियां पुणे ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की बनी हैं। तस्कर गोली लेकर ट्रेन से उतरा ही था कि पुलिस उसके पीछे लग गई। गांधी मैदान थाने के जमाल रोड मोड़ के पास उसे पुलिस ने पकड़ लिया। काले रंग के बैग में गोली थी। पटना में उसे राजा को गोली की सप्लाई करनी थी। एसएसपी जीतेंद्र राणा ने बताया कि पुलिस यह पता लगा रही है कि वीरेश के तार नक्सलियों से तो नहीं जुड़े हैं। 

कई कुख्यातों को जानता है तस्कर
मैनपुरी जिले के मानिकपुर कोगांव निवासी वीरेश पटना के कई कुख्यात अपराधियों को जानता है। पुलिस की मानें तो उसने पहले भी गोलियां सप्लाई की थीं। वीरेश के पास से दो वोटर आईकार्ड, पंद्रह सौ रुपए और एक मोबाइल मिला है। वोटर आईकार्ड सूर्य प्रताप के नाम से है।

गैंग में महिलाएं और बच्चे भी शामिल
गैंग में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। एक महिला ने ही वीरेश की जान-पहचान राजा से कराई थी। राजा ने ही गोलियों का ऑर्डर दिया था। बच्चे और महिलाओं से गोली की डिलीवरी करवाई जाती है, ताकि किसी को शक न हो।

रिमांड पर लिया जाएगा तस्कर
तस्कर वीरेश को पुलिस रिमांड पर लेगी। छानबीन के लिए पुलिस की एक विशेष टीम कानपुर और पुणे भी जाएगी। मुंगेर से भी इस गिरोह के तार जुड़े होने की आशंका है।

गोलियों की कीमत साढ़े तीन सौ रुपए
मार्केट में 315 बोर की गोलियों की कीमत साढ़े तीन सौ रुपए है। पटना के मार्केट में ये गोलियां जल्दी नहीं मिलतीं। लिहाजा बाहर से कम दाम में गोलियों की खेप मंगवाकर यहां अधिक कीमत में बेची जाती है। 

मोबाइल बन सकता है ‘तुरूप का पत्ता’
तस्कर का मोबाइल पुलिस के लिए तुरूप का पत्ता साबित हो सकता है। सिम कार्ड का सीडीआर (कॉल डीटेल रिकॉर्ड) निकलवाने की तैयारी की जा रही है. ताकि वीरेश के कनेक्शन के बारे में पता चल सके। किन लोगों से वह बात करता था इसका खुलासा भी हो सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उत्तर प्रदेश का आर्म्स तस्कर पटना में गिरफ्तार