DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिटी बस चालकों ने बंद किया संचालन

कछवां से जमुआ होते हुए वाराणसी के लिए रोडवेज की सिटी वसें गुरुवार से बंद हैं। बुधवार की रात मनबढ़ों के पिटाई से क्षुब्ध चालकों और परिचालकों ने इस रूट पर बसें नहीं चलाने का निर्णय लिया है। उनका कहना है कि जब तक मारपीट के सभी आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं होती है तब तक संचालन ठप रहेगा। सिटी बसें नहीं चलने से आसपास के लगभग तीस गांव के लोग प्रभावित होंगे।

कछवां से वाराणसी के लिए सात सिटी बसों का संचालन किया जाता है। इसमें पांच कछवां से जमुआ होते हुए वाराणसी के बीच संचालित होती है जबकि दो का संचालन कछवां से भैसा, कछवां रोड होते हुए वाराणसी के लिए रवाना की जाती है। बुधवार की दोपहर में वाराणसी से आ रहे बस को जमुआ स्थित डिग्री कॉलेज के सामने छात्रों ने रोकना चाहा तो बस नहीं रुकी। शाम को जब चालक बस लेकर वाराणसी से लौटा तो चड़िया गांव के समीप चार-पांच युवकों ने बस रोकने के बाद चालक मेवालाल और परिचालक विनय सिंह की पिटाई कर दी। इससे क्षुब्ध होकर दोनों ने थाने पर पहुंच कर आकाश, मोहित सहित पांच के खिलाफ तहरीर दी। सूचना पर रात में ही अन्य बसों के चालक व परिचालक भी थाने पर पहुंच गए। इसके बाद गुरुवार की सुबह फिर चालक हमलावरों की गिरफ्तारी के  लिए बसों को थाने के सामने खड़ी कर प्रदर्शन करने लगे। इससे हरकत में आयी पुलिस ने मोहित और कर्मवीर सिंह को गिरफ्तार कर उनका चालान कर दिया।

इसके बाद दोपहर बारह बजे से बसों का संचालन शुरू हुआ। बस चालकों ने सभी की गिरफ्तारी होने तक जमुआ होकर बस न चलाने का निर्णय लिया। बताया कि वे कछवां, भैंसा, कछवां रोड होते हुए जाएंगे। थाने पर नारेबाजी करने वालों में सेवालाल, राजेश यादव, राधेश्याम, अरविंद सिंह, मनोज, सतेन्द्र, दीपेन्द्र आदि रहे। वहीं, दूसरी तरफ जमुआ के ग्रामीणों ने गिरफ्तार युवकों को गलत ढंग से फंसाने का आरोप लगाया है। बताया कि पकड़े गये दोनों युवकों के पास मासिक टिकट है। ऐसे में किराया विवाद अथवा मारपीट की बात गलत है। इस संबंध में डीके राय ने बताया कि किराया को लेकर विवाद के बाद मारपीट हुई थी। सभी आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिटी बस चालकों ने बंद किया संचालन