DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिलासपुर नसबंदी कांड : अब 3 महिलाएं लापता

बिलासपुर नसबंदी कांड : अब 3 महिलाएं लापता

बिलासपुर के कानन पेंडारी में हुए नसंबदी ऑपरेशन शिविर में दर्जन भर महिलाओं की मौत हो गई थी। अब इसी शिविर को लेकर एक नया मामला सामने आया है। शिविर में नसबंदी कराने वाली 83 में से 3 महिलाएं लापता बताई जा रही हैं। तीनों लापता महिलाओं को लेकर जिला प्रशासन के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग में भी हड़कंप मचा हुआ है।

बिलासपुर के जिलाधिकारी सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी ने मामले की जांच कराए जाने की बात कही है।

कानन पेंडारी नसबंदी शिविर में जिन 83 महिलाओं की नसबंदी की गई थी, उनमें से 80 के बारे में तो विभाग को जानकारी है, लेकिन तीन महिलाओं के बारे में कोई जानकारी फिलहाल नहीं मिल पाई है।

शिविर में ऑपरेशन करवाने वाली जिन 83 महिलाओं की सूची में तीनों महिलाओं- राधा बाई पति राकेश धुरी मंगला, कुमारी पति राधेश्याम मंगला, रानी पति महेश- का नाम है उसमें दर्ज पते के आधार पर की गई पड़ताल में जिला प्रशासन को इन महिलाओं की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

अब स्वास्थ्य विभाग पर नसबंदी शिविर में लक्ष्य पूरा करने के लिए फर्जी तरीके से अज्ञात महिलाओं का नाम सूची में डालने के आरोप लग रहे हैं।

मामला इसलिए ज्यादा गंभीर हो गया है कि क्योंकि कानन पेंडारी में भर्ती 83 महिलाओं में से 12 और पेंड्रा की एक बैगा आदिवासी महिला को मिलाकर कुल 13 महिलाओं की मौत की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई है। लेकिन अब इन तीन महिलाओं के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं मिलने से जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की एक बार फिर किरकिरी हो रही है।

बिलासपुर के जिलाधिकारी सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी ने कहा,‘‘फिलहाल वे कहां हैं, यह बताना मुश्किल है। ये महिलाएं कौन हैं और कहां की हैं, यह पता लगाने के आदेश दिए गए हैं।’’

कोटा उप मंडलाधिकारी फारिहा आलम सिद्दिकी ने कहा, ‘‘महिलाओं के बारे में संबंधित गांवों में पता लगाने की कोशिश की गई, लेकिन तीनों महिलाओं का कोई पता नहीं चल सका है।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिलासपुर नसबंदी कांड : अब 3 महिलाएं लापता