class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जांडिस के मरीज चटपटे भोजन से परहेज करं

होम्योपैथिक चिकित्सक डा. रतन ने कहा कि गर्मी में खानपान में गड़बड़ी से जांडिस की शिकायत अधिक रहती है। शादी के मौसम में चटपटे भोजन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसका असर लीवर एवं आंत पर पड़ता है। जांडिस की शुरुआत में भूख समाप्त हो जाती है और हल्की बुखार, आंख व पेशाब में पीलापन की शिकायत रहती है। इससे बचाव के लिए हमें संतुलित भोजन लेना चाहिए तथा मशालेदार भोजन से परहेज करना चाहिए। जोडिंस के मरीज अधिक से अधिक पानी पीएं। शीतल पेय एवं फ्रीज के पानी को कदापि न पीएं। जोडिंस के मरीज होम्योपैथ दवाई चेलीडोनियम, माइरीका,नैट्रमसल्फ, चाइना, पल्साटीला, काडूअसमेरियम लें।ड्ढr ड्ढr रविवार को हिन्दुस्तान ऑनलाइन में डा. रतन ने कहा कि गर्मी में बच्चों को चिकेन पॉक्स की बीमारी अधिक होती है। ये बीमारी वायरल संक्रमण के कारण होता है। तेज गर्मी,फ्रीज का पानी पीने, फास्ट फूड लेने से यह बीमारी होती है। इससे बचाव के लिए बच्चों को सरसों तेल लगाकर स्नान करना चाहिए तथा भोजन के बाद गुड व शाम में भूंजा खाना चाहिए। इसमें बेलाडोना 30 दवाई ज्यादा कारगर है। संक्रमण लगने के बाद डॉक्टर से शीघ्र संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा कि शरीर के किसी भी भाग के जोड़ में दर्द होने के कई कारण हैं। उठने-बैठने के तौर तरीके, खानापान में गड़बड़ी, ठंड़े पानी के सेवन आदि से घुटने में दर्द होता है। इसके लिए ब्रायोनिया, रसटॉक्स, कैलीकार,लाइकोपोडियम, पल्सटीला, चेलीडोनियम, कॉलचिकम दवाई का उपयोग करं। डा. रतन ने कहा कि आजकल सभी उम्र के लोगों में खूनी बवासीर की शिकायतें काफी हैं। अधिक देर तक किसी एक ही स्थान पर बैठकर काम करने वाले लोगों को यह बीमारी अधिक होती है। इसमें मरीज को मसालेदार एवं डालडा व घी युक्त भोजन से परहेज करना चाहिए। इस बीमारी में एसकूलस, एसिडनाइट्रिक, रैतानियां, कॉलिनसोनिया, फेरमफॉस, हमामालिस, मिलीफोलिनम दवा ज्यादा कारगर है। अधिक उम्र में पेशाब के रास्ते में ग्रंथियां हो जाती हैं जिससे पेशाब करने में परशानी होती है। इसमें मरीज को बार-बार पेशाब,पेशाब की धार में कमी की शिकायत रहती है। फ्रीज के पानी पीने एवं आइसक्रीम खाने से बच्चों में टॉन्सिल की शिकायतें भी अधिक रहती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जांडिस के मरीज चटपटे भोजन से परहेज करं