DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रजिस्ट्री का काम भी प्रभावित

रजिस्ट्री करवाने के लिए स्टांप डयूटी का पैसा इन दिनों स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखओं में जमा होता है। हड़ताल के कारण स्टांप डयूटी का पैसे बैंक में जमा नहीं हो सका। जिससे बुधवार को तहसीलों में रजिस्ट्री का काम प्रभावित हुआ।

एटीएम शाम होते-होते खाली
फरीदाबाद। बैंकों की हड़ताल के चलते कैश का सारा बोझ एटीएम मशीनों पर आ गया। एटीएम मशीनों पर कैश निकालने वालों की भीड़ रही। शाम होते-होते एटीएम मशीने पर भी जबाव दे गईं।
बैंक कर्मचारियों की मांग
-वेतन में करीब 23 फीसदी बढ़ोतरी
-वर्ष 2012 में होना था नहीं हुआ
-अनुकम्मा के आधार पर कर्मचारी की मृत्यू के बाद उनके परिवार में
-आश्रित को नौकरी की व्यवस्था की जाए।
-पेंशनर का डीए मूलवेतन में दिया जाए

आम लोगों की प्रतिक्रिया
हेमा शर्मा, सेक्टर-8: ओ, सिट, ये पहले से नहीं बताते हैं कि आज हड़ताल पर रहेंगे। आना बेकार हो गया। सरकार को इन बैंक वालों की मांग पूरी करनी चाहिए। समय की कीमत कोई नहीं समझ रहा।


कृष्ण देवी, एनएच-तीन: पेंशन लेने आई थी। तीन नंबर से आना पड़ता है। अब फिर से कल आना पड़ेगा। मैं तो सोमवार को भी आई थी तब नहीं बताया कि आज हड़ताल करेंगे।
कृष्ण बड़खल: गांव पैसे भेजने थे। स्टेट बैंक से ही भेजने पड़ते हैं। सुबह से लंबी लाइन लग जाती है। इसलिए जल्दी आ गया। अब कह रहे हैं कि हड़ताल है।
विजय कुमार: कारोबारी शहर में बैंक हड़ताल नहीं होनी चाहिए। चेकबुक लेनी थी, यहां आए तो देखा हड़ताल है। कर्मचारी बाहर से जबाव दे रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रजिस्ट्री का काम भी प्रभावित