DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंक हड़ताल से करीब आठ सौ करोड़ का कारोबार ठप

औद्योगिक नगरी फरीदाबाद में बुधवार को बैंकों की हड़ताल से करीब आठ करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित हुआ। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंकर्स यूनियन (यूबीएफयू) के आह्वान पर वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे और अलग-अलग बैंकों के सामने प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी कि अगर उनकी मांग जल्द पूरी नहीं की गई तो आंदोलन उग्र रूप से ले सकता है।
    
बैंकों की क्रमिक हड़ताल यह दूसरा दिन रहा। बैंक यूनियनों ने  जोन के मुताबिक देशभर में अलग-अलग दिनों में हड़ताल का निर्णय लिया हुआ है। इसके मद्देनजर बुधवार को नॉर्थ जोन के बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे और कर्मचारियों ने अलग-अलग बैंकों के सामने नारेबाजी की। नीलम चौक स्थित यूको बैंक व स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सामने एकत्रित होकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शनकारी कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी की। हड़ताल से कारोबारी शहर में आम लोगों को परेशानी हुई। हड़ताल के चलते एटीएम पर भीड़ बढ़ गई। हड़ताल के चलते बैंकों में काम-काज पूरी तरह ठप रहा।

हरियाणा बैंक इंप्लाईज फैडरेशन के अध्यक्ष ईश्वर सिंह, उपाध्यक्ष आनंद यादव, कृपाराम शर्मा, भोले सिंह व जसवीर सिंह आदि ने दावा किया कि बैंक हड़ताल फरीदाबाद में पूरी तरह से सफल रही। उन्होंने कहा कि सरकार दसवें वेतन समझौते को तुरंत लागू करे।  साथ ही वेतन में 23 फीसदी की बढ़ोतरी की जाए। जिले में करीब 27 बैंकों की लगभग दो सौ शाखाओं के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। कारोबारी शहर होने के कारण दिनभर लोगों का बैंकों में आने जाने का सिलसिला रहा। सरकारी बैंकों में कामकाज न होने से सरकारी कामों पर भी असर पड़ा। ट्रेजरी के माध्यम से होने वाले काम नहीं हुए। हड़ताल को लेकर उद्यमी और व्यापारी खासे परेशान हुए।

औद्योगिक-व्यापार कारोबार हुआ प्रभावित    
फरीदाबाद इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष नवदीप चावला ने कहा कि बीते बीस दिन में यह बैंकों की दूसरी हड़ताल है। फरीदाबाद कारोबारी शहर है। बैंकों पर काम-काज टिका है। हड़ताल के कारण पेमेंट नहीं हो सकी। ड्रॉफ्ट नहीं बन सके। कारोबारियों के लिए एमर्जेसी में भी बैकिंग की व्यवस्था करनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बैंक हड़ताल से करीब आठ सौ करोड़ का कारोबार ठप