DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों के लिए महाराष्ट्र को चाहिए 4,500 करोड़

किसानों के लिए महाराष्ट्र को चाहिए 4,500 करोड़

हाल में किसानों की आत्महत्याओं को लेकर चिंतित महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा है कि उनकी कठिनाईयों को कम करने के लिए सरकार चौबीसों घंटे काम कर रही है और केन्द्र से आवश्यक सहायता के लिए 4,500 करोड़ रुपया वित्तीय सहायता की मांग की है।
    
मुख्यमंत्री ने कहा कि फसल खराब होने और सूखा के कारण किसानों की खुदकुशी को लेकर वह दुखी हैं और किसानों से धैर्य नहीं खोने की अपील करते हैं और उन्होंने आश्वासन दिया कि उनकी सरकार सभी तरह से उन लोगों की सहायता करेगी।
    
फडणवीस ने यहां पर जारी एक बयान में बताया कि सूखा की हालत गंभीर है और बिजली के बिल में छूट देने, सूखा प्रभावित इलाकों में कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों को शुल्क में छूट, कृषि रिण का पुनर्गठन जैसे विषयों पर निर्णय और रिणों की वसूली पर पहले से ही रोक लगा दी गयी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार स्थिति पर लगातार नजर रखे हुए है और किसानों की गंभीर स्थिति में उसके साथ मजबूती से खड़ी है। पिछले सप्ताह 75 वर्षीय एक किसान ने फसल खराब होने के कारण अकोला जिले के एक गांव में कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी।
   
इसके अलावा, पिछले कुछ दिनों में विदर्भ से रिण से ग्रस्त सात किसानों के खुदकुशी करने की खबर है जिसके बाद फडणवीस ने पिछले सप्ताह वहां का दौरा किया था। यह जानकारी एक एनजीओ विदर्भ जनआंदोलन समिति (वीजेएस) ने दी, जो इस तरह की मौतों पर नजर रखती है।
   
समिति के अध्यक्ष किशोर तिवारी ने हाल ही में दावा किया कि इन मौतों के साथ, पानी संकट और कृषि संकट का सामना कर रहे कपास क्षेत्र में खुदकुशी करने वाले किसानों की संख्या बढ़ कर इस साल अब तक 1,022 हो गयी है।
   
तिवारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने पिछले सप्ताह अमरावती में फडणवीस से मुलाकात की थी और मांगों को लेकर एक सूची प्रस्तुत की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसानों के लिए महाराष्ट्र को चाहिए 4,500 करोड़